Error message

Strict warning: Only variables should be passed by reference in fancy_login_page_alter() (line 109 of /home/jkheakmr/public_html/main/sites/all/modules/fancy_login/fancy_login.module).

मां

जब हम बच्चे थे तो आपस में लड़ते थे 
मां मेरी है----मां मेरी है----मां मेरी है----
            और
जब हम बड़े हुए तो फिर लड़ने लगे-
मां तेरी है----मां तेरी है---मां तेरी है----
सचमुच वो बचपन भी कितना प्यारा और सच्चा था जिसमें मां के प्रति कितना प्यार था।
No votes yet