Error message

  • Warning: Illegal string offset 'field' in DatabaseCondition->__clone() (line 1818 of /home/jkheakmr/public_html/main/includes/database/query.inc).
  • Warning: Illegal string offset 'field' in DatabaseCondition->__clone() (line 1818 of /home/jkheakmr/public_html/main/includes/database/query.inc).
  • Strict warning: Only variables should be passed by reference in fancy_login_page_alter() (line 109 of /home/jkheakmr/public_html/main/sites/all/modules/fancy_login/fancy_login.module).

Tips

Daily health tips :

1. आंव के अतिसार:- डाभ की जड़ का काढ़ा बनाकर सेवन करने से आंव के अतिसार में लाभ होता है।

2. घबराहट या बेचैनी:- कुश अथवा डाभ की जड़ को 3 से 6 ग्राम की मात्रा में पीसकर सुबह, दोपहर, शाम को पिलाने से प्यास के कारण होने वाली घबराहट दूर हो जाती है।

1. 1 किलो गन्ने के ताजे रस में, 250 ग्राम ताजा शुद्ध घी मिलाकर पकाते रहें जब घी की मात्रा शेष रह जाए तब 10 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से कास (खांसी) के रोग में बहुत लाभ होता है।
2. गन्ने के 10 ग्राम रस में 30 ग्राम पानी मिलाकर हल्के हाथों से शरीर पर लगाने से चेचक, मसूरिका तथा मन्थर ज्वर दूर हो जाता है।

If you want to protect his life from Cancer, should increase quantity of double bread in the food. Double bread and Cancer is connected by each other, because the Food science found that double bread is easily digestible food than other foods, so taking it ends the fear of intestinal cancer.

1. Fill 5 litre juice of sugar-cane in a smooth soil’s pot and close its mouth with a cloth. One week later, open its mouth and filter juice. Mix 3 grams black salt in this juice for one month to prepare the mixture. Drinking 10 ml lukewarm this mixture is useful to end stomach pain quickly.

2. Take 2-4 grams caraway powder with jaggery and live with abstinence, it checks blood disorders and ends stomach pain within 7 days.

1. गुड़ के साथ अजवायन चूर्ण 2-4 ग्राम मिलाकर सेवन करने से तथा पथ्यपूर्वक रहने से 7 दिनों में रक्तज विकार विशेषकर पेट का दर्द ठीक हो जाता है।
2. गन्ने के ताजे रस को पीने से पेशाब खुलकर आता है एवं मूत्रसंबन्धी समस्त रोग दूर होते हैं।
3. 40 से 60 ग्राम गन्ने के जड़ का काढ़ा रोगी को पिलाने से पेशाब की जलन समाप्त हो जाती है।

अगर पेट के कैंसर से बचना हो तो भोजन में डबलरोटी की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए। डबल रोटी और कैंसर एक-दूसरे से जुडे़ हैं, क्योंकि आहार विज्ञान ने पाया है कि दूसरे खाने वाले पदार्थों की तुलना में डबलरोटी जल्दी पच जाती है जिससे आंतों का कैंसर होने का खतरा नहीं होता है।

1. दांत का दर्द : दांत के दर्द में अकलबेर के चूर्ण को दर्द वाले स्थान पर लगाने से आराम मिलता है।
2. खांसी और जुकाम : अकलबेर के चूर्ण को शहद या मिश्री के चूर्ण के साथ रोगी को देने से राहत मिलती है।

1. Erysipelas (group of pimples): Eat 250 grams guava in noon for 4 weeks regularly; it clears the stomach and bring out warmth form stomach. It purifies the blood and cures pimples. It also ends itching.

1. Bascillary dysentery and bloody diarrhoea: Taking husk of spogel seeds with curd is useful to get benefit in the condition.


1. Eat ripe guava with salt to get relief in stomachache.
2. Grind fifty grams soft leaves of guava and mix water in it. Filter this mixture and give it to the patient to drink. It will provide relief in
3. Grind fine leaves of guava tree and lick it with black salt because it provides relief in stomachache.

Pages