सेक्स क्रिया

Sex kriya ya sambhog ko usi samay saphal samjha jata hai jabki dono ke janan ango men uchit samy tak aur achchhi tarah se gharshan hota rahe.


सेक्स क्रिया


समान रूप से शारीरिक सम्बन्धों द्वारा भोगा गया आनन्द ही सम्भोग (सेक्स क्रिया) है। इसमें सेक्स का आनन्द स्त्री-पुरुष को समान रूप से प्राप्त होना आवश्यक है। स्खलन के साथ ही पुरुष को तो पूर्ण आनन्द की प्राप्ति हो जाती है और सेक्स सम्बन्ध स्थापित होते ही पुरूष का स्खलन निश्चित हो जाता है। यह स्खलन एक मिनट में भी हो सकता है तो दस मिनट में भी। अर्थात् पुरुष को पूर्ण आनन्द की प्राप्ति हो जाती है। इसलिए मुख्य रूप से स्त्री को मिलने वाले आनन्द की तरफ ध्यान देना आवश्यक है। अगर स्त्री इस आनन्द से वंचित रहती है, इसे सम्भोग नहीं माना जाना चाहिए।