सेक्स की इच्छा तथा उत्तेजना

Sex jiwan ka ek hissa hai lekin jiwan sex ka hissa nahi hai. Sex ki aniyantrit ichchhaon ka apradhon ke sath gahara sambandh hai. Balatkar iska pratyksh praman hai.

सेक्स की इच्छा तथा उत्तेजना


सेक्स के प्रति अनियन्त्रित इच्छाएं अधिक घातक परिणाम लाती हैं जो व्यक्ति हर समय सेक्स के बारे में सोचते रहते हैं, किसी भी सुन्दर युवती को देखकर उसके साथ सेक्स करने की कल्पनाएं करते हैं। ऐसे व्यक्तियों का स्नायु तंत्र इतना अधिक संवेदनशील हो जाता है कि सेक्स के प्रति जरा सा सोचते ही वे पूर्ण रूप से उत्तेजित हो जाते हैं। व्यक्ति यदि कुंआरा है तो स्वप्नदोष का शिकार हो जाता है और यदि शादीशुदा है तो कई बार उसे शीघ्रपतन का शिकार भी होना पड़ सकता है। इसके अलावा व्यक्ति मानसिक रूप से भी तनावग्रस्त रहता है.............

>>Read More