Error message

  • User warning: The following theme is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: mobilizer. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).

लसीका


लसीका

(Lymph)


         लसीका रक्त प्लाज्मा के जैसा साफ और पानी जैसा द्रव होता है। इसका संघटन (composition) अन्तरालीय द्रव (interstitial fluid) के जैसा होता है, परन्तु इसमें प्लाज्मा़ से ज्यादा प्लाज्मा प्रोटीन्स की मात्रा कम रहती है। ऊतकों में चयापचय के फलस्वरूप पैदा होने वाले कुछ बेकार पदार्थ जैसे- कार्बन डाइऑक्साइड, यूरिया आदि भी इसमें मिले रहते हैं। इसमें कुछ श्वेत रक्त कोशिकाएं (leucocytes) भी पायी जाती हैं, जो रक्त कोशिकाओं की पतली, छिद्रमय भित्तियों से प्रवेश कर जाती हैं। लसीका ग्रन्थियों (lymph glands) में पैदा होने वाली लिम्फोसाइट्स भी बड़ी लसीका वाहिकाओं में पायी जाती हैं।

लसीका उत्पत्ति (Origin of lymph)- निलयी संकुचन द्वारा उत्पन्न रक्त वाहिकाओं के अंदर रक्त के हाइड्रोस्टैटिक दाब से जल, प्रोटीन्स की कुछ मात्रा विशेषकर एल्ब्यूमिन एवं अन्य पदार्थ केशिकाओं से रिसकर बाहर ऊतक कोशिकाओं के बीच के स्थान (interstitial space) में आ जाते हैं। यह द्रव पदार्थ अन्तरालीय द्रव (interstitial fluid) कहलाता है। यह अन्तरालीय द्रव जीवित ऊतकों को भिगोकर रखता है तथा उनका पोषण करता है। ऊतकों का पोषण करने के बाद पैदा हुआ बेकार पदार्थों जैसे- कार्बन डाइऑक्साइड, यूरिया आदि से युक्त अन्तरालीय द्रव का अधिक भाग रक्त केशिकाओं की भित्तियों को पार करके उनके भीतर पहुंच जाता है लेकिन उसका कुछ भाग रक्त केशिकाओं में न जाकर लसीकीय केशिकाओं (lymphatic capillaries) में पहुंच जाता है, जो लसीका (lymph) कहलाता है और लसीकीय तन्त्र द्वारा रक्त प्रवाह में चला जाता है।

मानव शरीर मेन कैटेगरीज :


मानव शरीर का परिचय    |   एनाटॉमी एवं फिजियोलॉजी­     मानव शरीर संरचना के आधारभूत घटक          कोशिका       पोषण एवं चयापचय        ऊतक           पाचन संस्थान        आच्छदीय संस्थान       अस्थि-संस्थान (कंकाल-तन्त्र)      जोड़ या सन्धियां       पेशीय संस्थान        तन्त्रिका तन्त्र       ज्ञानेन्द्रिया       अन्तःस्रावी तन्त्र        रक्त परिसंचरण       लसीकीय तन्त्र   |   श्वसन-संस्थान       मूत्रीय संस्थान        प्रजनन-संस्थान