बाघी


बाघी

Baaghi


मुद्राओं द्वारा चिकित्सा :

परिचय- 

          इस क्रिया में भोजन के 3-4 घंटे बाद बिना पचे भोजन को मुख से निकाल कर पेट को साफ कर दिया जाता है। जिस तरह बाघ अपने शिकार को खाने के 2-3 घंटे बाद अपचा हुआ खाना मुख से निकाल कर अपने पेट को साफ कर लेता है और अपारशक्ति का स्वामी बना रहता है। उसी प्रकार व्यक्ति भी बाघी क्रिया के द्वारा अपने अन्दर बिना पचा हुआ भोजन बाहर निकालकर अपने शरीर को साफ व स्वच्छ रखता है। योग गुरूओं ने इस क्रिया को बाघों से प्रेरणा लेकर बनाया है, इसलिए इस क्रिया को बाघी क्रिया कहा जाता है।

बाघी क्रिया की विधि-

          इस क्रिया को शांत व स्वच्छ हवादार स्थान पर करें। भोजन के 2-3 घंटे बाद एक बर्तन में 3-4 बार कुल्ला करने योग्य पानी रखें। अब कागासन में बैठकर पेट भर पानी पी लें। इसके बाद खड़े होकर आगे की ओर झुककर तीन अंगुली मध्यमा, तर्जनी व कनिष्का को मुख के अन्दर जीभ के पिछले हिस्से पर रखकर दबाव डालें। इससे वमन (उल्टी) की इच्छा होगी और पेट में भरा पानी बाहर निकलने लगेगा। इसमें गंदे पानी के साथ अपचा भोजन भी पानी के साथ बाहर आने लगेगा। इस तरह इस क्रिया को तब तक करें, जब तक पानी अन्दर से साफ न निकलने लगे। इस प्रकार इस क्रिया को 3 से 4 बार करने के बाद जब पानी जैसा पिया था वैसा साफ आने लगे तो इस क्रिया को रोक दें। इसके बाद जल नेति करें। बाघी क्रिया पूर्ण होने के 15-20 मिनट बाद दूध की बनी हुई खीर जरूर खाएं और बाघी क्रिया वाले दिन खिचड़ी या हल्का भोजन करें।

सावधानी- 

          बाघी क्रिया करने से पहले खिचड़ी या हल्का भोजन करें और अधिक तला, मिर्च-मसालेदार भोजन न करें। बाघी क्रिया के बाद दूध से बनी खीर जरूर खाएं। यह क्रिया कठिन है, इसलिए इसका अभ्यास किसी योग्य शिक्षक के देख-रेख में करें।

इससे रोगों में लाभ-

          भोजन करने के 3 घंटे के अन्दर ही आहार नली में भोजन पचकर उसका सारा रस नाड़ियों द्वारा खींच लिया जाता है। अपचे भोजन को पचाने के लिए आंतों को अधिक शक्ति का प्रयोग करना पड़ता है। बाघी क्रिया द्वारा भोजन को पचाने में आंतों द्वारा लगने वाली अधिक शक्ति बच जाती है। यह जठराग्नि को प्रदीप्त करती है। इस क्रिया को करने से छाती चौड़ी और कमर पतली होती है तथा इससे शरीर में स्फूर्ति व चेहरे पर चमक आती है। इसके अभ्यास से शरीर में बढ़ रहें स्थूल मोटापा दूर होता है। यह शरीर से मल को साफ करके शरीर को स्वच्छ बनाता है।