बथुवे के बीज


बथुवे के बीज


A  B  C  D  E  F  G  H  I J  K  L  M  N  P  R  S T  U  V  Y
[ B ] से संबंधित आयुर्वेदिक औषधियां

 रंग : बथुवे के बीज काले रंग के होते हैं।

स्वाद : बथुवे के बीज का स्वाद फीका होता है।

स्वरूप : यह काफी मशहूर होता है।

स्वभाव : इसका स्वभाव गर्म होता है।

हानिकारक : यह गर्म स्वभाव वालों को नहीं खाना चाहिए।

दोषों को दूर करने के लिए : इसे गुलाब और मिश्री में मिलाने से इसमें मौजूद दोष दूर हो जाते हैं।

तुलना : बथुवा के बीज की तुलना पालक के बीज से कर सकते हैं।

मात्रा : इसे 5 ग्राम की मात्रा मे सेवन करते हैं।

गुण : बथुए के बीज गांठों को दूर करते हैं। यह दस्तों को लाने वाला है, जलोदर और कांबर के लिए बहुत ही लाभदायक है। पेशाब होने में परेशानी को दूर करता हैं। गुर्दे और आंतों की कमजोरी को दूर करता है। धातु (वीर्य) को बढ़ाता है और दिमाग की शक्ति को बढ़ाता है।

Tags:  Bathue ke beej ki matra, Bathue ke beej ki parkarti, Bathue ke beej ka swabahv, Jalodar, Gurde ki kamjori