पाचन संस्थान क्या है?


पाचन संस्थान क्या है?

 What is digestive system?


पाचन संस्थान :

प​रिचय-

          पाचनतंत्र शरीर की एक ऐसी प्रणाली होती है जो पूरे शरीर के संचालन को हर समय ऊर्जा देती रहती है। भोजन की पाचन क्रिया की शुरुआत चबाने से होती है। जब हम भोजन मुंह में डालकर चबाते हैं तो लार ग्रंथि से लार निकलकर कार्बोहाइड्रेट्स को ग्जूकोज में बदल देती है। यहां से भोजन ग्रासनली द्वारा आमाशय में पहुंचता है, जो वहां लगभग 3 घंटे तक रहता हैं। इस अवधि में विभिन्न पाचक रस इसमें आकर मिलते हैं तथा पाचन क्रिया संपादित करते है।

           इस क्रिया के बाद भोजन तरल रूप में परिवर्तित होकर छोटी आंत में चला जाता है। छोटी आंत के प्रथम भाग ग्रहणी में अग्नयाशय और पित्ताशय से पाचक रस आकर भोजन में मिलते हैं, जो दोबारा पाचकक्रिया करते हैं। यहां से भोजन छोटी आंत के अंतिम भाग शेषान्त्र में चला जाता है। वहां पर भोजन के आवश्यक तत्व रक्त मे मिल जाते हैं तथा अवशेष बड़ी आंत में पहुंच जाते हैं। वहां से यह उत्सर्जन तंत्र द्वारा मल के रूप में शरीर से बाहर निकल जाता है।

पाचन संस्थान-

          पाचन संस्थान मानव शरीर की ऐसी प्रणाली है जो सम्पूर्ण शरीर के संचालन को निरन्तर ऊर्जा प्रदान करती है। इसका कार्य भोजन को अर्न्तग्रहण करके उसका पाचन करना एवं अवशोषित करके रक्त में मिलाना तथा बिना पचे और व्यर्थ पदार्थो को मल के रूप में बाहर निकालना  है।

          भोजन हमारे शरीर मे तीन प्रकार की प्रक्रियाओं से होकर गुजरता है :-

  • पाचन
  • अवशोषण
  • चयापचय

          भोजन का पाचन और अवशोषण तो पाचनतंत्र के कार्य है किन्तु चयापचय शरीर की कोशिकाओ के स्तर पर होता है।

          पाचनतंत्र के मुख्य अंगों और उसके कार्य के बारे में जानने से पहले हमें भोजन नाल (एलीमेन्ट्री केनाल या गैस्ट्रो इन्टेस्टीनल (जी.आई) ट्रैक्ट या डायजेशन ट्रैक्ट की दीवार की बनावट या संरचना के बारे में समझना जरूरी है।

          पाचन एक यांत्रिक और रासायनिक प्रक्रिया होती है। इसके अंतर्गत भोजन बहुत ज्यादा बारीक कणों में बंट जाता है और उसके बाद विभिन्न एंजाइम्स और पाचक रसों (enzymes and digestive juices) की क्रिया द्वारा उसका रूप बदल जाता है, जिससे उसके घटक रक्त द्वारा अवशोषित हो सकें तथा कोशिकाओं द्वारा उपयोग में लाए जा सकें। वे मिली-जुली विभिन्न भौतिक और रासायनिक प्रक्रियाएं जिनके द्वारा भोजन के अघुलनशील पदार्थों को घुलनशील बनाकर स्वांगीकरण (assimilation) के लिए सुचारु रूप से तैयार किया जाता है, पाचन कहलाती है। पाचन की यह प्रक्रिया मुख्य रूप से पाचक अंगों से स्रावित रसों की क्रिया से संपन्न होती है। पाचन की क्रिया में कार्बोहाइड्रेट, ग्लूकोज, फ्रक्टोज, गैलेक्टोज, सुक्रोज, माल्टोज, लैक्टोज आदि सरल शर्कराओं में बदलकर अवशोष्य बन जाते हैं। प्रोटींस, अमीनों एसिड्स और वसा, वसीय अम्ल (fatty acids) तथा ग्लिसरॉल में बदल जाती है। कार्बोहाइड्रेटस, वसाएं और प्रोटींस पाचन-संस्थान द्वारा विखंडित होकर ऐसे सरलतम द्रव्यों में बदल जाते हैं ताकि वे आसानी से ऊतक द्रव में अवशोषित हो सकें। जल, खनिज लवण और विटामिंस का जिस रूप में सेवन किया जाता है, वह उसी रूप में अवशोषित हो जाते हैं और शरीर की कोशिकाएं उनको अपने प्रयोग में ले लेती हैं। जो पदार्थ आंतों में पच नही पाते, वे मल के रूप में शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

          पाचक-अंगों में मुख्य रूप से पाचक-नली होती है। इस पाचक-नली को पोषण-नाल (alimentary canal) भी कहते हैं और इसी में पाचक-रसों की मदद से पाचन-क्रिया संपन्न होती है।