पति-पत्नी के संबन्ध

Parivar ko samridh aur khushhal banana ke liye patniyon ki tarah patiyon ki bhi bahut khas bhumika hoti hai. Agar dono milkar koshish karate hain tabhi pariwar men such-shanti bani rah sakti hai.


पति-पत्नी के संबन्ध


शादी के बाद दाम्पत्य जीवन में प्यार और सुख शांति बनाए रखने के लिए पति और पत्नी को मिलकर कोशिश करनी होती है। परिवार एक ऐसी गाड़ी की तरह है जिसमें पति-पत्नी के रूप में पहिए होते हैं जिसे दोनों को मिलकर खींचना होता है। इन दोनों पहियों में से अगर एक भी खराब होता है तो गाड़ी चलाना मुश्किल हो जाता है।

परिवार को समृद्ध और खुशहाल बनाने के लिए पत्नियों की तरह पतियों की भी बहुत खास भूमिका होती है।

>> Read More