Error message

  • User warning: The following theme is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: mobilizer. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).

पट्टी और लपेट


पट्टी और लपेट


लपेट क्रिया के लिए 7-8 फुट लम्बा तथा 6-7 इंLapet kriya ke liye 7-8 foot lamba tatha 6-7 inch chauda sooti ka kapada lekar paani men bhigokar nichodkar rogi ke sarir ke jis ang par lapetna hota hai. च चौड़ा सूती का कपड़ा लेकर पानी में भिगोकर निचोड़कर रोगी के शरीर के जिस अंग पर लपेटना होता है उस पर लपेट लेते हैं। फिर उस कपड़े के एक ओर सूखा कपड़ा लपेट दिया जाता है। फिर इस लपेट को कम से कम 1 घंटे तक रखा जाता है। आवश्यकतानुसार इस लपेट के समय को बढ़ाया भी जा सकता है। कपड़े के लपेट को हटाने के बाद उस भाग को गीले कपड़े से पोंछ लें। इस लपेट का प्रयोग विभिन्न रोगों के लिए विभिन्न अंगों पर किया जाता है। इस  लपेट का प्रयोग गले, छाती, पेट और जोड़ों पर किया जाता है। शरीर के विभिन्न अंगों के लपेट का नाम-

1. गला लपेट

2. छाती लपेट

3. पेट लपेट

4. जोड़ लपेट

>>Read More