तन्त्रिका तन्त्र

Tantrika tantr sharir ki asankhy koshikao ki kriyao men ek prakar ka tal mel karta hai taki pura sharir ek idayee ke roop me kary kar sake.


तन्त्रिका तन्त्र


Tantrika tantr sharir ka ek mahatvproon tantr mana jata hai, Yah tantr poore sharir ki tatha uske vibhinn bhagon evam angon ki samast kriyenतन्त्रिका तन्त्र क्या है?


तन्त्रिका तन्त्र शरीर का एक महत्वपूर्ण तन्त्र माना जाता है। यह तन्त्र पूरे शरीर की तथा उसके विभिन्न भागों एवं अंगों की समस्त क्रियाओं का नियन्त्रण, नियमन तथा समन्वयन करता है और समस्थिति (homeostasis) बनाए रखता है। शरीर के सभी ऐच्छिक एवं अनैच्छिक कार्यों पर नियंत्रण करना तथा सभी संवेदनाओं को ग्रहण करके मस्तिष्क में पहुंचाना इसी तन्त्र का कार्य है..................

>>Read more