ड्रैसिंग और पट्टी


ड्रैसिंग और पट्टी

DRESSING AND BANDAGE


प्राथमिक चिकित्सा :

परिचय-

          किसी भी तरह के घाव का उपचार करने में ड्रैसिंग का बहुत महत्व माना जाता है। घाव की ड्रैसिंग कर देने से उसमें संक्रमण होने की आशंका कम हो जाती है और उससे होने वाला रक्तस्राव नियंत्रित हो जाता है। ड्रैसिंग करने से घाव के और अधिक गहरा होने का खतरा कम हो जाता है तथा घाव जल्दी भर भी जाता है।

          उच्च कोटि की ड्रैसिंग का कीटाणुओं से मुक्त होना बहुत जरूरी है। अगर ड्रैसिंग में कीटाणु होंगे तो संक्रमण फैलने के अवसर अधिक बढ़ सकते हैं। ड्रैसिंग में रंध्र या छिद्र होने चाहिए, जिनसे घाव से निकलने वाले स्राव तथा पसीना आदि बाहर निकल सके।

          बाजार में ऐसी कीटाणु मुक्त ड्रैसिंग मिलती हैं जिसे आसानी से घाव पर चिपकाया जा सकता है। इसमें सूती कपड़े का अवशोषक (तरल पदार्थ को सोखने वाले) गॉज का एक पैड होता है, जिसे एक चिपकने वाले पदार्थ की मदद से घाव पर रखा जाता है। ऐसी ड्रैसिंग को घाव पर चिपकाने से पहले उस घाव के आसपास के क्षेत्र को पूरी तरह सुखा दिया जाता है। फिर ड्रैसिंग के सारे किनारों को मजबूती से दबा दिया जाता है।                              

         वैसे प्राथमिक उपचार में चिपकने वाली (एडहेसिव) ड्रैसिंग बहुत सही होती है लेकिन वह हर समय और हर जगह उपलब्ध नहीं होती। इसलिए कई बार प्राथमिक उपचारकर्ता को अन्य प्रकार की ड्रैसिंग, जैसे- रूमाल, कपड़े इत्यादि को भी ड्रैसिंग के रूप में इस्तेमाल करना पड़ता है।

          बाजार में ऐसी ड्रैसिंग भी मिलती है जो कीटाणु मुक्त तो होती है लेकिन चिपकने वाली नहीं। इसमें गॉज की परतों पर रूई की गद्दी लगी होती है और ये एक गोल रोलर पट्टी से बंधी होती है, जिससे वे अपने स्थान से खिसक नहीं पातीं। ये ड्रैसिंग एक सुरक्षात्मक आवरण में सील होती हैं। इस प्रकार की, पहले से तैयार कीटाणु मुक्त ड्रैसिंग, अलग-अलग आकारों में, कैमिस्ट की दुकान पर आसानी से मिल जाती हैं।

          आमतौर पर गंभीर घावों की ड्रैसिंग करने के लिए गॉज का इस्तेमाल किया जाता है। गॉज मुलायम होती है, उसे आसानी से मोड़ा जा सकता है और वह घावों से निकलने वाले रक्त आदि स्रावों को आसानी से सोख लेती है। वैसे तो यह ड्रैसिंग घाव पर चिपक जाती है लेकिन इससे रक्त के थक्के बनने में मदद मिलती है और घाव जल्दी ठीक हो जाता है। जब गॉज का उपयोग ड्रैसिंग की तरह किया जाता है तब उस पर रूई की एक-दो परतें रख दी जाती हैं।

          किसी भी तरह की दुर्घटना होने पर अगर दुर्घटनास्थल पर ड्रैसिंग का बंदोबस्त न हो पाए तो ऐसी स्थिति में प्राथमिक उपचार के दौरान घाव पर किसी भी साफ और मुलायम कपड़े का उपयोग किया जा सकता है। रूमाल ज्यादातर हर व्यक्ति के पास रहता है उसका भी उपयोग घाव पर किया जा सकता है लेकिन गॉज को घाव पर से खिसकने न देने के लिए उस पर पट्टी बांध देनी चाहिए।

घावों की ड्रैसिंग करते समय कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी होती हैं जैसे-

  • घाव की ड्रैसिंग करने से पहले अपने हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धो लेना चाहिए।
  • घाव को हाथ से या ड्रैसिंग के किसी ऐसे भाग से न छुएं, जो बाद में घाव के संपर्क में नहीं आएगा।
  • घाव या ड्रैसिंग के ऊपर या आसपास खांसे नहीं क्योंकि इससे जीवाणु घाव अथवा ड्रैसिंग में जा सकते हैं।
  • घाव को रूई की काफी मात्रा से ढक दें। यदि रूई ड्रैसिंग से कुछ बाहर निकली रहे तो अच्छा है। इन दोनों को घाव पर ठीक प्रकार रखने के लिए ऊपर से पट्टी बांध दें।
  • अगर ड्रैसिंग घाव के साथ चिपक जाए तो उसे छुड़ाने की कोशिश न करें बल्कि उस हिस्से को कैंची से काट दें, जो आसानी से अलग हो सकता हो।

पट्टी बांधना (Bandaging)- चोट, मोच, हड्डी टूट जाना आदि की स्थिति में शरीर के क्षतिग्रस्त भागों पर पट्टी बांधने की जरूरत पड़ती है।

निम्नलिखित कारणों से भी पट्टी बांधी जा सकती है-

  • घाव या चोट लगे अंग को संक्रमण (Infection) तथा बाहरी धूल आदि के दुष्प्रभाव से बचाने के लिए पट्टी की जाती है।
  • खून को बहने से रोकने के लिए पट्टी की जाती है।
  • शरीर के किसी भाग पर दबाव डालकर, वहां रक्त-संचालन की गति को धीमा करने के लिए पट्टी बांधी जाती है।
  • शरीर के चोट खाये हुए किसी अंग या किसी भाग की पेशिय़ों तथा रक्तवाहिनी-नसों को सहारा देने के लिए पट्टी की जाती है।
  • चोट खाये हुए भाग को हिलने-डुलने से रोकने के लिए पट्टी बांधी जाती है।
  • सूजन तथा जोड़ की गति को कम करने के लिए पट्टी की जाती है।
  • टूटी हुई या अपने स्थान से हट गई हड्डी को जोड़ने या सही स्थान पर बैठा देने के बाद, उसे दुबारा अपने स्थान से न हटने देने के लिए पट्टी की जाती है।
  • अगर घाव की ‘ड्रैसिंग’ की गई हो या उस स्थान पर रूई, कपड़ा अथवा खपच्ची को रखा गया हो, तो उसे अपनी जगह से न हटने देने के लिए पट्टी बांधी जाती है।
  • ठंडे या गर्म सेंक के लिए पट्टी बांधी जाती है।

नोट- घाव पर अच्छी तरह पट्टी तब तक नहीं बांधी जा सकती जब तक कि उसका पहले कई बार अभ्यास न कर लिया गया हो। इसलिए पट्टी बांधने की विधियों का अभ्यास पहले ही कर लेना चाहिए, ताकि जरूरत के समय पट्टी को ठीक तरह से बांधा जा सके।

पट्टियों की किस्में

पट्टियों के मुख्य दो भेद हैं-

  • मरहम पट्टी।
  • सामान्य पट्टी।

मरहम पट्टी- किसी चोट ग्रस्त अंग को ढकने के लिए जिन साधनों का उपयोग किया जाता है, उन्हें ‘मरहम पट्टी’ या ‘ड्रेसिंग’ कहा जाता है।

प्राथमिक उपचार करने के दौरान दो प्रकार की ड्रेसिग प्रयोग में लाई जाती है-

  • सूखी मरहम पट्टी।
  • गीली मरहम पट्टी।

सूखी मरहम पट्टी- इसका उपयोग घाव की सुरक्षा, घाव को भरने में सहायता पहुंचाने तथा घाव पर इच्छित-दबाव डालने के लिए किया जाता है।

          इस प्रकार के घावों के लिए सबसे अधिक भरोसेमंद मरहम-पट्टी कीटाणु-रहित फलालेन का वह टुकड़ा होता है, जो सामान्य पट्टी के साथ सिला रहता है। इस प्रकार की मरहम-पट्टी मोमी कागज में बन्द करके लिफाफे में रखी जाती है। इसे एलोपैथिक की दवाईयां बेचने वाली दुकान से खरीदा जा सकता है। मरहम-पट्टी जिस लिफाफे के अंदर बन्द रहती है, उसके ऊपर उसको प्रयोग करने की विधि भी छपी रहती है।

          यदि उपरोक्त प्रकार की कीटाणु-रहित मरहम-पट्टी उपलब्ध न हो तो घाव को ढकने के लिए साफ फलालेन के कपड़े के एक टुकड़े को भी प्रयोग में लाया जा सकता है। दुर्घटना घटित होने के बाद अगर फलालेन का टुकड़ा भी उपलब्ध न हो तो उस समय साफ धुले हुए रूमाल या बिना छपे साफ तथा सफेद कागज के टुकड़े से भी काम चलाया जा सकता है, लेकिन कपड़े, रूमाल या कागज आदि का प्रयोग सिर्फ उतने ही समय तक के लिए किया जाना चाहिए, जब तक कि कीटाणु-रहित मरहम-पट्टी उपलब्ध न हो सके।

गीली मरहम पट्टी- यह पट्टी भी दो प्रकार की होती है।

  • ठंडे सेंक वाली।
  • गर्म सेंक वाली।

1- ठंडे सेंक वाली मरहम पट्टी- इस प्रकार की पट्टी को दर्द के समय आराम पहुंचाने, सूजन को कम करने या आन्तरिक रक्तस्राव को रोकने के लिए लिए प्रयोग में लाया जाता है।

          साफ रूमाल या फलालेन के टुकड़े की चार परत बनाकर ठंडे पानी में भिगोकर चोट-ग्रस्त अंग पर रखना ही इसकी विधि है। पट्टी को गीला तथा ठंडा बनाये रखने के लिए उसे समय-समय पर बदलते रहना भी जरूरी है।

2- गर्म सेंक वाली मरहम पट्टी- इस प्रकार की पट्टी का प्रयोग घाव के कारण होने वाले दर्द को कम करने के लिए किया जाता है। साफ रूमाल या फलालेन के टुकड़ों की चार परत बना कर, उसे गर्म पानी में भिगोने के बाद निचोड़ लें। इसके बाद उसे प्रभावित अंग पर रख दें। यह मरहम-पट्टी जितने ज्यादा समय तक गर्म रखी जा सके, उतने समय तक रखनी चाहिए।

जानकारी- प्राथमिक उपचार के दौरान मरहम पट्टी करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि ठंडे सेंक वाली मरहम-पट्टी के अलावा गर्म सेंक वाली मरहम-पट्टी को चोट-ग्रस्त अंग पर ही रखा जाए, अगर पट्टी उस स्थान से बाहर निकली रहेगी, तो वह बाहरी त्वचा के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकती है।।

सामान्य पट्टियां-

सामान्य पट्टियां कई प्रकार की होती है जैसे-

  • लम्बी पट्टियां।
  • तिकोनी पट्टियां।
  • बहुपुच्छी पट्टियां।
  • चिपकने वाली पट्टियां।

लपेटी जाने वाली लम्बी पट्टियां- इन पट्टियों को मारकीन के कपड़े द्वारा इच्छित लम्बाई तथा चौड़ाई में तैयार कराया जा सकता है। ऐसी पट्टियों को तैयार कराने के बाद गोलाई में लपेटकर, सुरक्षित रख देना चाहिए, ताकि उनमें बाहरी गन्दगी, धूल, कीटाणु आदि का प्रवेश न हो तथा जरूरत के समय प्रयोग करने में भी सुविधा बनी रहे।

          कैमिस्ट की दुकानों पर भी इस प्रकार की पट्टियां मिलती हैं। ये पट्टियां कीटाणु-रहित जालीदार पतले कपड़े (Gauze) बोरिक-वस्त्र (Boric-Lint) फलालेन आदि से बनी होती है। ये पट्टियां सामान्यतः 5 मीटर लम्बी होती हैं तथा विभिन्न चौड़ाईयों में आती हैं। ये रोल में लिपटी होती हैं, इसलिए इन्हें ‘लुढकी-पट्टी’ भी कहा जाता है।

          इन पट्टियों को मशीन या हाथ से लपेटकर सख्त कर दिया जाता है। जब पट्टी के थोड़े भाग को लपेट दिया हो तथा कुछ भाग खुला हो, तब लिपटे हुए भाग को ‘सिरे वाला हिस्सा’ तथा बाकी भाग को ‘खुला हिस्सा’ कहा जाता है।

          इन पट्टियों का प्रयोग करने से पहले अपने हाथों को साबुन या किसी कीटाणु-नाशक घोल से धोकर साफ कर लेना चाहिए। साथ ही यह भी ध्यान रखना चाहिए कि पट्टी का प्रयोग करते समय आपकी श्वास-वायु उन पर सीधी न पड़े।

          प्रयोग करने के बाद जो पट्टी बाकी बचे, उसे कागज में लपेटकर, दुबारा इस्तेमाल करने के लिए सुरक्षित रख देना चाहिए।

          अचानक पड़ने वाली जरूरत के समय अगर बाजार में मिलने वाली या तैयार की गई पट्टियां उपलब्ध न हों तो घर के ही किसी बारीक, लेकिन साफ कपड़े को लम्बाई में फाड़कर भी पट्टी तैयार की जा सकती है। घरेलू कपड़ों से पट्टी तैयार करने के लिए सूती धोती या साड़ी का प्रयोग में लाना बहुत अच्छा रहता है। रेशमी या दूसरे किसी प्रकार के कपड़े की पट्टी का प्रयोग ठीक नहीं रहता है।

          धोती या साड़ी में से पट्टी निकालते समय उनके किनारे वाले भाग को छोड़ देना चाहिए।

          सामान्यतः कोहनी या भुजा पर बांधने के लिए ढाई इंच चौड़ी तथा पांच मीटर लम्बी पट्टी काफी रहती है। टांगों पर बांधी जाने वाली पट्टी की चौड़ाई तो ढाई इंच ही काफी रहेगी लेकिन उसकी लम्बाई आठ से दस मीटर होनी चाहिए। अगर एक ही पट्टी इतनी लम्बी न हो तो दो पट्टियों को जोड़कर उन्हें लम्बा बनाया जा सकता है।              

          पेट या छाती पर बांधने के लिए 5 इंच चौड़ी तथा 10-12 मीटर लम्बी पट्टी का होना जरूरी है। अगर लम्बाई के लिए दो पट्टियों को आपस में सुई-धागे से सीने की सुविधा न हो तो उस स्थिति में एक पट्टी के समाप्त हो जाने पर, उसी के ऊपर दूसरी पट्टी को लपेट देने के बाद पट्टी को आगे बांधना शुरू कर देना चाहिए। लेकिन दो पट्टियों को जोड़ने के लिए उनमें गांठ नहीं लगानी चाहिए क्योंकि इससे पीड़ित व्यक्ति को परेशानी हो सकती है तथा गांठ के कारण पट्टी के अपने स्थान से हट जाने की सम्भावना भी अधिक रहती है।

      लटकाने वाली तिकोनी पट्टी- बांह में चोट आ जाने पर उन्हें लटकाने के लिए इन पट्टियों का उपयोग किया जाता है। बांह की हड्डी के टूट जाने पर हाथ को पेट के या छाती के सहारे मुड़ा रखने की जरूरत होने पर या बांह, हथेली, अंगुली, अंगूठा आदि में कोई ऐसा जख्म हो जाने पर जिससे कि उसके नीचे लटकने पर खून अधिक निकलने की सम्भावना हो, तब उसे ऊंची रखने के लिए भी इस पट्टी का प्रयोग किया जाता है। अंग्रेजी में इस प्रकार की पट्टिय़ों को ‘स्लिंग’ (Sling) कहा जाता है।

         ऐसी पट्टियों को तैयार करने के लिए मजबूत कपड़े का होना जरूरी है, ताकि वह बांह के वजन को अच्छी तरह सहन कर सके। इसलिए इस कार्य के लिए लट्ठा या किसी ऐसे ही दूसरे मजबूत कपड़े को उपयोग में लेना चाहिए।

         38 इंच वाले कपड़े के चौकोर टुकड़ों को दोनों भागों में बांटकर कर्णवत् (Diognal) काटने से दो तिकोनी पट्टियां तैयार हो जाती हैं।         

         जरूरत अनुसार पट्टी को जितनी लटकाना हो, उसी के अनुसार छोटी-बड़ी पट्टी तैयार की जा सकती हैं।

तिकोनी पट्टी को निम्नलिखित तीन अंगों में बांटा जा सकता है-

  • आधार (Base) या सबसे लम्बा किनारा।
  • (साइड्स) (Sides) या दोनों किनारों के छोर।

इसके तीनों कोनों में से ऊपर वाले सिरों को ‘नोंक (Point) और बाकी कोनों को अन्तिम कोना’ (Ends)  कहा जाता है।

तिकोनी पट्टी का प्रयोग निम्नलिखित रूपों में किया जाता है-

  • खुली पट्टी के रूप में- इसे छाती या चौड़े भाग पर एक ही पट्टी के रूप में लगा दिया जाता है।
  • चौड़ी पट्टी के रूप में- इस तरीके में पट्टी के सिरे के नीचे ‘बेस’ के बीच में लाकर, उसी दिशा में तह लगाकर बांध देते हैं।
  • संकरी पट्टी के रूप में- इस तरीके में पूर्वोक्त चौडी़ पट्टी की एक तह दुबारा उसी दिशा में लगा दी जाती है।
  • जरूरत अनुसार चौड़ी या संकरी पट्टी बनाने के लिए तिकोनी पट्टी के दोनों सिरों को मिलाकर आधा कर लिया जाता है।

बहुपुच्छी पट्टियां- इन पट्टियों को फलालेन या साफ कपड़ों द्वारा जरूरत अनुसार तैयार कर लिया जाता है। लेकिन कपड़ा चाहे जैसा sभी हो, वह इतना लम्बा जरूर होना चाहिए कि जिस अंग पर पट्टी लगानी हो, उसके चारों ओर उसे डेढ़ बार लपेटा जा सके तथा चौड़ा इतना हो कि घाव वाले स्थान की पूरी हड्डियों को ढक लें।

          कपड़े के दोनों सिरों को इस प्रकार से काटना चाहिए कि सभी पट्टियां चौड़ाई के बराबर तथा एक दूसरे के प्रति समानान्तर रेखा में कपड़े के बीचों-बीच से निकल जायें और वे सब चौड़ाई के बराबर की हों, लेकिन कपडों का मध्य भाग मुड़ा हुआ रहना चाहिए। बांधे जाने वाले अंग के आधार पर इसकी चौड़ाई 2 से 4 इंच तक रखी जा सकती है।

          बहुपुच्छी पट्टी तैयार करने की दूसरी विधि में कपड़े की पट्टियों को समानान्तर रेखा में इस प्रकार रख दिया जाता है कि हर पट्टी, दूसरी पिछली पास वाली पट्टी के एक तिहाई भाग को अपने नीचे दबाये रहे। इस तरह रखने के बाद पट्टियों को उनके केन्द्र के दोनों ओर कुछ दूर तक सिल दिया जाता है या पट्टियों को केन्द्र के आर-पार वैसे ही कपड़े को रखकर सिल देते हैं।    

          इस पट्टी को करने का मुख्य लाभ यह है कि घाव की जांच तथा मरहम-पट्टी बदलने की क्रिया रोगी को बिना किसी तरह का कष्ट पहुंचाए ही पूरी की जा सकती है।

चिपकाने वाली पट्टियां- ये पट्टियां Leuco Plast Blasto या Plast के रूप में मिलती है। इन्हें कैमिस्ट की दुकान से खरीदा जा सकता है। सामान्य फोड़े, फुन्सी आदि पर इन्हें वैसे ही चिपका दिया जाता है। अगर किसी अंग के घाव आदि पर रूई या गॉज आदि को सही स्थान पर बनाए रखना हो और वहां सामान्य पट्टी न बांधी जा सके तो इनका उपयोग अच्छा रहता है।

उदाहरण- अगर गाल पर कोई छोटी फुंसी पककर फूट गयी हो और उस स्थान पर दवाई लगाने के बाद रूई से ढक दिया गया हो तो उस रूई को सही स्थान पर बनाए रखने की बजाय चिपकने वाली पट्टी का प्रयोग करना अच्छा रहेगा।

पट्टी बांधने के प्रकार- पट्टी तीन प्रकार से बांधी जाती है-

(1) सख्त (Hard),

(2) सम (Uniform)

(3) ढीली (Loose)।

1. सख्त पट्टी बांधना- शरीर के जिन अंगों में अधिक दबाव (Pressure) की जरूरत होती है, वहां सख्त (Hard) पट्टी बांधी जाती है जैसे- नितंब, जंघामूल, बगल, बाहुमूल, सिर आदि मांसल भागों में,

2. सम पट्टी बांधना- पीठ, पार्श्व, गला, पेट, छाती, मुंह, लिंग तथा अंगुली आदि में सम (Uniform) प्रकार की पट्टी बांधी जाती है ताकि वह न अधिक ढीली और न ही अधिक सख्त ही रहे।

3. संक्षेप में जिस पट्टी को कसकर बांधा गया हो लेकिन वह पट्टी अपने कसाव के कारण रोग-ग्रस्त स्थान पर न तो दर्द पैदा करें और न उक्त-संचालन में ही बाधा डाले (अर्थात् जिसके कसाव के कारण अंग नीले न पड़ जाये) उसे ‘सख्त-बन्ध’ जो न ढीला और न कसा हो, उसे ‘सम-बन्ध’ तथा जो ढीला हो उसे ‘शिथिल-बन्ध’ कहा जाता है।

पट्टियों की गांठ बांधना- पट्टियों को लपेटने के बाद उनके आखिरी सिरे पर गांठ लगाई जाती है। गांठ को चोट-ग्रस्त स्थान से कुछ दूरी पर ही बांधना चाहिए, ताकि उसके कारण रोगी को कोई असुविधा न हो।

गांठ दो प्रकार की होती हैं-

1. रीफ गाँठ (Reef knot)

2. ग्रैनी गाँठ (Grainy knot)।       

रीफ गांठ- पट्टी के सिरों को स्थिर रखने के लिए यह ‘गोंठ’ सबसे अच्छी मानी जाती है। रीफ गांठ लगाने के लिए सबसे पहले पट्टी के दोनों सिरों को दोनों हाथों से पकड़ ले। फिर दाएं हाथ के सिरे को बाएं हाथ के सिरे के नीचे से निकालकर ऊपर ले आए तथा इसे चक्कर दे दें। इसके बाद फिर बाएं हाथ के सिरे को नीचे से निकालकर दूसरा चक्कर दे दें। इस प्रकार जो गांठ लगती है, उसे ‘रीफ-गांठ’ कहते हैं।  

     रीफ गांठ लगाते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि पीड़ित की त्वचा पर उसका अधिक दबाव न पड़े और न उसके कारण उसे किसी कष्ट का अनुभव हो। अगर गांठ लगाने पर पीड़ित को कष्ट होने की आशंका हो तो उसकी त्वचा के नीचे रूई आदि ही एक नर्म गद्दी भी लगा देनी चाहिए। गांठ लगाने के बाद उसके किनारों को अंदर की ओर मोड़कर अदृश्य कर देना चाहिए।

ग्रेनी-गांठ- यह सामान्य गांठ मानी जाती हैं। यह गांठ अक्सर जल्दी फिसल जाती है तथा शरीर में गढ़ती भी है, इसलिए इसे न बांधना ही ठीक है। अगर किसी विशेष परिस्थिति-वश यही गांठ लगानी पड़े तो इसे चोट वाले स्थान से दूर ही बांधना चाहिए।

          आजकल गांठ को स्थिर रखऩे के लिए गांठ बांधने की बजाय ‘सेफ्टी पिन’ तथा चिपकने वाली ‘टेप’ का प्रयोग किया जाता है।

स्लिंग (Sling)-  ऊपरी-भुजाओं को सहारा देने या आराम पहुंचाने तथा पीड़ित गर्दन, कन्धे और सीने के हिलने-डुलने से भुजाओं पर जो खिंचाव उत्पन्न होता है, उसे कम करने के लिए विभिन्न प्रकार की स्लिंग का प्रयोग किया जाता है। स्लिंग के लिए तिकोनी पट्टी प्रयोग में लायी जाती है।

भुजा लटकाने वाली स्लिंग- पसलियों की हड्डियां टूट जाने, घाव होने, हाथ या कन्धे में चोट लगने या भुजा की हड्डी टूट जाने की स्थिति में पीड़ित अंग पर खपच्चियां बांधी जाती हैं, तब इस स्लिंग को प्रयोग में लाया जाता है।    

          इस स्लिंग को लगाने के लिए सबसे पहले एक तिकोनी पट्टी लेकर पीड़ित व्यक्ति के मुंह की ओर खड़े हो जाएं। फिर पट्टी के एक किनारे को पीड़ित के उस कंधे पर रखें, जिस ओर चोट न लगी हो। इस किनारे का सिरा चोट-ग्रस्त कंधे की ओर रहना चाहिए। फिर उस किनारे को चोट-ग्रस्त भाग की ओर (गर्दन के ऊपर से) के कंधे पर से लाकर सामने लटका देना चाहिए। पट्टी का सिरा चोट-ग्रस्त भुजा की कोहनी तक पहुंच जाना चाहिए तथा उस भुजा के अगले हिस्से को पट्टी की स्लिंग के बिल्कुल मध्य भाग में रख दिया जाना चाहिए। फिर दूसरे किनारे को ऊपर उठाकर भुजा के अगले भाग को पट्टी में रखे तथा पहले सिरे से ‘रीफ गांठ’ लगाकर हंसली की हड्डी के ऊपर बांध दें।

          अब स्लिंग के कोहनी वाले सिरों को आगे की ओर लाकर सेफ्टीपिनों द्वारा स्लिंग के अगले भाग के साथ जोड़ दें। ऐसा करने से पट्टी के खिसकने की संभावना नहीं रहती। पट्टी को इस तरह से लगाना चाहिए कि उसका बेस हाथ की छोटी अंगुली के नाखून की जड़ तक जा पहुंच सके तथा बाकी अंगुलियों के नाखून खुले रहें। स्लिंग लगाने के बाद यह भी देख लेना चाहिए कि कलाई कोहनी की सीध में या उससे कुछ ऊंची रहे।

          बाकी अंगुलियों के झोली के बाहर निकले रहने का लाभ यह होता है कि उनके नाखूनों को देखकर चोट-ग्रस्त हाथ के रक्त परिभ्रमण का अनुमान लगाया जा सकता है।

हाथ की पतली स्लिंग- यह स्लिगं कलाई तथा हाथ को सहारा देने के लिए होती है, लेकिन इसके सहारे कोहनी भी अच्छी तरह से लटकी रहती है। कलाई, कंधे या हाथ में सामान्य चोट लगने पर इसे बांधा जाता है।

लगाने की विधि- स्वस्थ हाथ की ओर वाले कंधे की तरफ चौड़ी पट्टी का एक सिरा लेकर, उसे गर्दन के पीछे से इस तरह घुमाकर लाएं कि वह चोट-ग्रस्त कलाई वाले कंधे के ऊपर आ जाये।

          हाथ को कोहनी से मोड़कर चोट-ग्रस्त कलाई को पट्टी के मध्य-भाग में इस प्रकार रखना चाहिए कि छोटी उंगली का आधा भाग बाहर निकला रहे। इसके बाद लटकने वाले सिरे को पहले वाले सिरे से बांध दें।

कालर-कफ स्लिंग- इस प्रकार की स्लिंग का प्रयोग मुख्यतः हंसली की हड्डी टूट जाने पर कलाई को सहारा देने के लिए किया जाता है।

लगाने की विधि- रोगी की कोहनी को मोड़कर भुजा के अगले हिस्से को सीने पर इस तरह रखें कि उसके हाथ की अंगुलियां दूसरे कन्धे का स्पर्श करती रहें। फिर कलाई को ‘क्लोव-हिच-गांठ’ (Clove-Hitch knot) द्वारा रोगी की हड्डी के ऊपरी भाग में गांठ लगा दें।

          ‘क्लोव-हिच-गांठ’ (Clove-Hitch knot) लगाने के लिए सबसे पहले एक संकरी पट्टी लेकर फंदा बना लें। फिर एक और फंदा बनाकर उसे पहले फंदे के ऊपर रखें। इसके बाद दूसरे फंदे को पहले फंदे के पीछे की ओर घुमाएं। इस प्रकार ‘क्लोव-हिच-गांठ’ (Clove-Hitch knot) लग जाती है।

सेण्टजॉन झोली- हंसली की हड्डी टूट जाने पर हाथ को अच्छी तरह ऊपर उठाये रखने के लिए इस प्रकार की स्लिंग बांधने से पीड़ित व्यक्ति को बहुत आराम मिलता है तथा उसका हाथ भी ऊपर उठा रहता है।

लगाने की विधि- चोट-ग्रस्त ओर के हाथ को छाती पर इस प्रकार रखें कि उसकी हथेली छाती की हड्डी पर रहे तथा अंगुलियां स्वस्थ कंधे की ओर रहें।

          फिर तिकोनी पट्टी को खोलकर उसके बाकी भाग को दाएं हाथ में तथा पट्टी के एक सिरे को बाएं हाथ में पकड़कर, पट्टी को मोड़े हुए हाथ पर इस तरह रखें कि पट्टी का बाकी भाग कोहनी से दूर रहे तथा बाएं हाथ से पकड़ा हुआ सिरा दाएं कंधे पर रहें (यदि चोट बाँयी ओर लगी है, तो)।

          फिर नीचे लटकते हुए सिरे को कोहनी के नीचे से मोड़ते हुए पीठ की ओर ले जाएं तथा स्वस्थ कंधे पर ले जाकर, वहां पहले से रखे हुए सिरे में बांध दें। पट्टी की सिकुड़नों को सावधानी से दूर करके, शीर्ष भाग को कोहनी के सामने की ओर मोड़कर पिन लगा देनी चाहिए।

          यदि दुर्घटना-स्थल पर तिकोनी पट्टियां न मिले तो पीड़ित हिस्से वाली बांह को मोड़कर सावधानी से हथेली को छाती पर रखकर या कमीज की बांहों को सेफ्टीपिनों द्वारा कोट से अटका देना चाहिए.

अन्य प्रकार की स्लिंग- जरूरत अनुसार और भी कई प्रकार की स्लिंग तैयार की जा सकती है जैसे- आस्तीन के कपड़े से सेफ्टीपिन लगाकर चोट के निचले भाग को ऊपर उठाकर पिन लगा देना तथा रोगी के बटनदार कोट अथवा वास्केट में उसका हाथ रख देना। इस प्रकार की पट्टियों को ‘पिन-पट्टी’ कहा जाता है।

          इस प्रकार ही बैल्ट, रूमाल या टाई का प्रयोग भी स्लिंग के रूप में किया जा सकता है।

          आकस्मिक-दुर्घटना के स्थान पर जो भी वस्तु मिले उसी से स्लिंग बनाकर पीड़ित अंग को राहत पहुंचाने की कोशिश करनी चाहिए।

विभिन्न प्रकार की पट्टियां बांधना- जरूरत अनुसार शरीर के किसी भी भाग में पट्टी बांधी जा सकती है। अलग-अलग भागों में पट्टियां बांधने की विधि भी अलग-अलग है।

लम्बी पट्टी का प्रयोग- लम्बी पट्टी का प्रयोग करते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए-

  • पट्टी को प्रयोग करने से पहले यह देख लेना चाहिए कि वह बेलनाकार रूप में अच्छी तरह कसकर लपेटी गई हो।
  • जिस स्थान पर पट्टी बांधनी हो, वहां उसके खाली छोर के बाहरी भाग को प्रयोग में लेना चाहिए।
  • पट्टी का खुला हुआ भाग बाह्य-त्वचा के सम्पर्क में रहना चाहिए।
  • पट्टी को नीचे से ऊपर की ओर भीतरी भाग से बाहरी भाग की ओर बांधना चाहिए, लेकिन सीने पर लम्बी पट्टी को नीचे से ऊपर की ओर तथा पेट पर ऊपर से नीचे की ओर बांधना चाहिए।
  • सारी लम्बी पट्टियां चक्करदार तरीके से ही बांधी जाती हैं। बांधते समय पट्टी के हर चक्कर को इस प्रकार से डालना चाहिए कि वह पहले चक्कर की लगभग एक तिहाई सतह को ढकता चला जाये।    
  • कुछ चक्करदार पट्टियों में पट्टी को हर चक्कर के बाद मोड़ते हुए लपेटा जाता है। ऐसी पट्टियों को बांधते समय हमेशा यह ध्यान में रखना चाहिए कि पट्टी को हमेशा एक ही स्थान पर मोड़ा जाए ये तथा मोड़ वाला स्थान हमेशा अंग के बाहरी भाग की ओर ही रहें। लपेटते समय पट्टी को कसकर पकड़ना चाहिए लेकिन मोड़ते समय कुछ ढ़ीला कर देना चाहिए। मोड़ने के बाद फिर कस लेना चाहिए। मोड़ते समय भी पट्टी को कुछ दूर तक ही खुला रहना चाहिए, अन्यथा वह ठीक से नहीं बंध सकेगी।
  • पट्टी को कसते हुए समान रूप में बांधना चाहिए, लेकिन उसे इतना अधिक भी नहीं कसना चाहिए कि रक्त का संचारण ही रुक जाये। बंधी हुई पट्टी पर हाथ फेरने से अगर उसके किनारे मुड़ जाएं तो यह समझना चाहिए कि पट्टी ढीली बंधी है।
  • रोगी के शरीर के बाएं तरफ वाले अंग में पट्टी बांधनी हो तो शुरुआत में पट्टी का बेलन बांधने वाले दाएं हाथ में तथा सिरा बाएं हाथ में होना चाहिए। इस प्रकार अगर दाएं अंग पर पट्टी बांधनी हो तो पट्टी का बेलन बाएं हाथ में तथा सिरा दाएं हाथ में रखना चाहिए। बांधते समय पट्टी के बेलन को बाएं हाथ से दाएं हाथ में रखना चाहिए। बांधते समय बेलन को बाएं से दाएं हाथ तथा दाएं से बाएं हाथ में बदलना भी पड़ता है।
  • पट्टी बांधते समय पट्टी के बेलन को घुमाने की दिशा हमेशा ही अंग के अंदर की ओर से बाहर की ओर रहनी चाहिए।
  • पट्टी को अगर किसी घाव आदि पर बांधना हो तो पहले उस पर दवाई आदि लगाने के बाद ही ऊपर से पट्टी बांधी जाती है।
  • लम्बी पट्टी यदि बेलनाकार बनी हुई नहीं हो तो उसे बांधने में बहुत परेशानी हो सकती है और वह ठीक से बंध भी नहीं पाती। बेलनाकार पट्टी को अच्छी तरह फैलाकर बिना मोड़ के सीधा बांधा जा सकता है। लम्बी पट्टी को बेलनाकार बनाने का कार्य हाथ या मशीन द्वारा किया जा सकता है।       

नोट- कुछ दिनों के अभ्यास से पट्टी को हाथ द्वारा भी बेलनाकार लपेटने में निपुणता प्राप्त की जा सकती है।

लम्बी पट्टी बांधने के प्रकार-

  • सामान्य घुमाव की पट्टी (Simple Spiral)।
  • उल्टे घुमाव की पट्टी (Reversed Spiral)।
  • अंग्रेजी के अंक 8 जैसी पट्टी (Figure-of 8 type Spiral)।
  • अंक 8 की सुधरित रीति वाली ‘स्पाइका पट्टी’ (Spaica Spiral)।

सामान्य घुमाने की पट्टी- यह पट्टी शरीर के उस भाग पर बांधी जाती है, जिसकी मोटाई एक समान हो जैसे- अंगुली, कलाई, भुजा का अगला हिस्सा या टांग का निचला भाग।

           इस किस्म की पट्टी जिस स्थान पर भी बांधनी हो, पहले उसे सीधा कर लेना चाहिए। इसके बाद पट्टी बांधने की शुरूआत करनी चाहिए। फिर इस लपेट को आगे बढ़ाते जाना चाहिए, ताकि चोट-ग्रस्त भाग ढकता हुआ चला जाए।   

उल्टे घुमाव की पट्टी- इस प्रकार की पट्टी में कई घुमाव (पेच) देने की जरूरत पड़ती है। इन घुमावों में लम्बी पट्टी जब अंग के चारों ओर घूम जाती है, तब वह अपने ऊपर से मुड़ जाती है।

          इस प्रकार की पट्टी उन अंगों पर बांधी जाती है, जिनकी मोटाई एक जैसी नहीं होती या फिर कहीं कम और कहीं ज्यादा होती है।

           ऐसे अंगों पर सामान्य-घुमाव की पट्टी नहीं बांधी जा सकती और यदि बांध भी दी जाती है तो ठहर नही पाती है। इसलिए इन पर उल्टे घुमाव की पट्टी ही बांधनी चाहिए।

अंग्रेजी के अंक आठ 8 जैसी पट्टी- इस विधि में पट्टी को रोग-ग्रस्त अंग के चारों ओर एक बार नीचे और फिर ऊपर ले जाते हुए तिरछा बांधा जाता है। इस प्रकार की पट्टी बाँधने से जो फंदे बनते हैं वे अंग्रेजी के अंक 8 जैसे आकार के होते हैं।

          इस प्रकार की पट्टी किसी अंग के जोड़ अथवा जोड़ के समीप वाले स्थान पर बांधी जाती है- जैसे कोहनी तथा घुटने।

          इस विधि में जोड़ के ऊपर तथा निचले भाग तक पट्टी का कपड़ा आ जाना चाहिए। इस प्रकार बांधने से पट्टी के खिसकने की सम्भावना कम रहती है। पट्टी को नीचे से ऊपर ले जाते समय कपड़े की दूरी जहां तक हो सके, अधिक रहनी चाहिए।

स्पाइका पट्टी- यह पट्टी भी अंग्रेजी के अंक आठ जैसी ही होती है, लेकिन इसे ज्यादा सुधरे रूप में अर्थात गेंहू की बाल जैसी रचना में बांधा जाता है।

          कंधे, जांघ, हाथ के अंगूठे तथा पांव के अंगूठे पर दबाव डालने के लिए इस प्रकार की पट्टी बांधी जाती है।

नोट- एक बार प्रयोग में लाई जा चुकी, गन्दी या उलझी हुई पट्टी को उपयोग में नहीं लेना चाहिए।

तिकोनी पट्टी का प्रयोग करते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए-

  • इस पूरी पट्टी को मोड़कर पहले पतली पट्टी बना लें। फिर उसे मेज या किसी दूसरी साफ जगह पर बिछाकर तथा दोनों किनारों को पकड़कर, इस प्रकार मोड़े कि दोनों सिरे पट्टी के बीच में एक-दूसरे से मिल जायें। इस विधि से मोड़ी हुई पट्टी के दोनों सिरों को एक बार दुबारा मोड़कर किसी डिब्बे आदि में सुरक्षित बन्द करके रख लें। इस विधि से मोड़कर रखी गई पट्टी को अपनी जेब में रखकर, कहीं बाहर भी आसानी से ले जाया सकता है।
  • तिकोनी पट्टी को बांधने से पहले उसकी स्वच्छता एवं कीटाणु-शून्यता के बारे में निश्चित हो लेना चाहिए। गन्दी, मैली या बहुत पुरानी पट्टी का प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  • तिकोनी पट्टी को बांधने के बाद उसके सिरों में हमेशा ‘रीफ-गांठ’ ही लगानी चाहिए और यह ध्यान भी रखना चाहिए कि गांठ ठीक घाव वाले स्थान के ऊपर न लगाई जाये, अन्यथा वह घाव में चुभेगी और रोगी को कष्ट पहुंचाएगी।
  • तिकोनी पट्टी को एकबार प्रयोग में लाने के बाद साबुन से धोकर तथा सुखाकर, दुबारा भी प्रयोग में लाया जा सकता है.

बहुपुच्छी पट्टियों का प्रयोग- बहुपुच्छी पट्टी को जरूरत के अनुसार विभिन्न आकार-प्रकारों में तैयार किया जा सकता है। उदाहरण के लिए बहुपुच्छी पट्टी पेट पर बांधने के लिए सबसे अच्छी मानी जाती है।

          इसे तैयार करने के लिए 12 इंच लम्बा तथा इतना ही चौड़ा एक मोटा कपड़ा ले लें। फिर उस कपड़े को दोनों तरफ से पांच-पांच पट्टियों की सिलाई द्वारा जोड़ दें। इनमें से हर पट्टी की लम्बाई 36 इंच से 48 इंच तक तथा चौड़ाई 5 इंच होनी चाहिए। पट्टियों की सिलाई करते समय यह विशेष ध्यान रखना चाहिए कि एक पट्टी के एक तिहाई भाग को छोड़कर, शेष दो तिहाई भाग के ऊपर दूसरी पट्टी की सिलाई पड़े। इसी में दो पट्टियां नीचे की ओर भी जोड़ देनी चाहिए।

          इस प्रकार की पट्टी को बांधने के लिए पीडित के दोनों बगलों में दो व्यक्तियों को खड़ा होना पड़ता है। पट्टी के मध्य भाग को पीड़ित के पेट पर रखने के बाद पहला व्यक्ति उसे अपनी ओर खींच लेता है। इसके साथ ही दूसरा व्यक्ति पट्टी को पीठ की मध्य रेखा से दूर पहुंचा देता है और दूसरा व्यक्ति पीड़ित को अपनी ओर खींचता है तथा पहला व्यक्ति पट्टी को पीठ की मध्य-रेखा से दूर पहुंचा देता है। इसी प्रकार हर बार पट्टी को पेट के ऊपर घुमाया जाता है। अन्त में हर पट्टी को अलग-अलग गांठ लगाकर या सेफ्टीपिन द्वारा बांध दिया जाता है। सबके अन्त में पट्टी के निचले दोनों सिरों को नीचे से घुमाकर, पीठ की ओर बांध दिया जाता है। इस विधि से पट्टी अपने स्थान से खिसकती नहीं है। 

  • सिर पर बांधने के लिए अंग्रेजी के अक्षर ’L’ टाइप की पट्टी अच्छी रहती है। इस प्रकार की पट्टी तैयार करने के लिए दो इंच चौड़ाई वाली दो इच्छित लम्बाई की पट्टियों को लेकर उनके दोनों सिरों को अंग्रेजी के ’L’ अक्षर की तरह सिलाई कर लिया जाता है।
  • मलद्वार तथा लिंग के बीच वाले स्थान पर बांधने के लिए ’T Type’ की पट्टी अच्छी रहती है। इस पट्टी को बीच से सिलाई द्वारा जोड़ लिया जाता है। फिर सिले हुए भाग को पीड़ित की पीठ की मध्य रेखा के पास रखकर, ऊपर वाले सिरे को पेट पर घुमाकर बांधा जाता है तथा नीचे वाले सिरे को मलद्वार के ऊपर से लाकर पेट के सामने बांध दिया जाता हैः-

चिपकने वाली पट्टी का प्रयोग-

  • चिपकने वाली पट्टियां अंग्रेजी दवाईयां तैयार करने वाली विभिन्न कम्पनियों द्वारा तैयार की जाती हैं, और उन्हें विभिन्न नामों जैसे- (Leuko Plast, Blasto plast, Flexo Plast, Adhesive Tape आदि) से बेचा जाता है। इन्हें अंग्रेजी दवा बेचने वालों की दुकान से खरीदा जा सकता है। ये पट्टियां अलग-अलग लम्बाइयों तथा चौड़ाईयों में प्राप्त होती हैं। इसलिए जरूरत अनुसार जिस आकार की पट्टी उचित हो, उसे ही लेना चाहिए।
  • इस प्रकार की पट्टियों का मुख्य लाभ यह है कि बन्ध न हो तो ढीला हो पाता है और न अपने स्थान से खिसकता ही है। ये पट्टियां बन्ध वाले स्थान को अच्छा सहारा देती हैं।
  • इनको प्रयोग करने के फलस्वरूप कभी-कभी त्वचा पर खुजली भी महसूस होती है तथा पट्टी को हटाते समय दर्द भी होता है।
  • इस प्रकार की पट्टी को शरीर के उन्हीं स्थानों पर लगाना चाहिए, जहां पर बाल न हों। अगर बालों वाली जगह पर यह पट्टी लगानी हो तो पहले उसे स्थान से बालों को हटा देना चाहिए।        
  • इस पट्टी को सूखी त्वचा पर ही लगाना चाहिए और इसको प्रयोग करते समय आयोडीन का घोल नहीं लगाना चाहिए।
  • शरीर के जितने भाग पर यह पट्टी लगानी हो उस पर टिंक्चर बैजोइन को0  (Tr. Benzoin Co.) को फाहे में लगाकर सुखा लेना चाहिए। इसके बाद उस स्थान पर पट्टी चिपकानी चाहिए। ऐसा करने से उस स्थान की त्वचा पर फुंसी आदि उठ आने की सम्भावना नहीं रहती।
  • पट्टी को निकालते समय उसे एक कोने से धीरे-धीरे छुड़ाना चाहिए ताकि पीड़ित को किसी तरह की परेशानी न हो।
  • पट्टी को छुड़ाते समय (Zoff T.J. Cmith and Nephew) अथवा Antichaesin (Aline and Honburys) नामक औषधियों को प्रयोग में लाना उचित रहता है। इन औषधियों को रूई के फाहे में लगाकर पट्टी के मसालें में लगाने से मसाला गल जाता है, जिसके कारण पट्टी सरलता से खुल जाती है।

विभिन्न अंगों पर पट्टी बांधना-

लम्बी पट्टी बांधना- शरीर के विभिन्न अंगों पर लम्बी पट्टियों को निम्नलिखित विधि द्वारा बांधा जा सकता है-

सिर की पट्टी- सिर पर पट्टी बांधने के लिए सबसे पहले 5-6 सेंटीमीटर चौड़ी तथा 7-8 मीटर लम्बी दो पट्टियां ले लें। फिर पट्टियों को दोनों हाथों से पकड़कर उनके खुले सिरो को सुई द्वारा सिलकर आपस में मिला लें अर्थात दोनों पट्टियों को जोड़ लें। अब पीड़ित व्यक्ति को कुर्सी या चारपाई पर बैठाकर उसके पीछे खड़े हो जाएं तथा पट्टी के मध्य भाग को अर्थात् जिसे जोड़कर तैयार किया गया है उस हिस्से को, कपाल के बीच में ठीक भौहों के ऊपर रखें। इसके बाद दोनों पट्टियों को क्रमशः विपरीत दिशा में खोलते हुए कानों के ऊपर से सिर के पीछे ले जाकर मोड़ दें। मोड़ने के बाद पहली पट्टी को सिर के मध्य भाग से सामने की ओर लायें। फिर दूसरी पट्टी को पहले वाली पट्टी के ऊपर माथे के दाईं ओर लाएं। इस क्रम को तब तक चालू रखें, जब तक कि पूरा सिर न ढक जाए। अन्त में सिर के पीछे दोनों पट्टियों को एक-दूसरे पर मोड़कर, दोनों को माथे के मध्य भाग में बांध दें।

कंधे की पट्टी- कंधे पर पट्टी बांधने के लिए 2 इंच चौड़ी तथा 5-6 मीटर लम्बी पट्टी लेकर, उसे कंधे के पास भुजा पर इस प्रकार रखें कि पट्टी का खुला हुआ सिरा भुजा के भीतरी किनारे की ओर रहे।

          अब भुजा पर पट्टी का एक चक्कर लगा दें। इस तरह पट्टी भुजा तथा शरीर के बीच से निकलकर भुजा से ऊपर आ जायेगी। इसके बाद चित्र के अनुसार पट्टी को भुजा के ऊपर कुछ तिरछा ले जाते हुए दूसरी ओर की बगल के नीचे से निकालें। फिर पट्टी को छाती के ऊपर से ले जाते हुए चोट-ग्रस्त कंधे की ओर वाली भुजा के ऊपर ले आये। पट्टी के भुजा पर वापिस आने पर उसे भुजा पर चक्कर देते हुए भुजा तथा शरीर के बीच से निकालें। इस प्रकार पट्टी फिर अपने पहले वाले स्थान पर आ जायेगी। यहां से पट्टी को फिर पूर्वोंक्त प्रकार से चक्कर देते हुए लपेटें। यह ध्यान रखें कि हर चक्कर से पहले वाले चक्कर का एक तिहाई भाग ढकता चला जाये। इसी तरह से लपेटते हुए जब पूरा कंधा ढक जाये, तब आखिरी चक्कर में छाती की ओर से चोट-ग्रस्त कंधे के पास पट्टी के पहुंच जाने पर उसका सिरा वहीं मोड़कर सेफ्टीपिन लगा देनी चाहिए।

लम्बी पट्टी द्वारा 8 के आकार वाली हाथ की स्लिंग- इस प्रकार की पट्टी को बांधने के लिए लगभग 2 इंच चौड़ी तथा 8-10 गज लम्बी पट्टी ले लें।

          इसके बाद पहले चोट-ग्रस्त कोहनी को मोड़कर छाती पर रख दें। फिर पट्टी के खुले हुए सिरे को कोहनी के पास ऊपरी भुजा पर रखें तथा ऊपरी भुजा और अग्रभुजा के ऊपर से ले जाते हुए पट्टी को छाती के दूसरी ओर ले आयें। वहां से पट्टी की ओर घुमाकर, फिर चोट-ग्रस्त कोहनी के पास ले आएं। इसके बाद पट्टी को कोहनी के पास अग्रभुजा के ऊपर से निकाल कर विपरीत ओर के कन्धे के ऊपर लायें। इस प्रकार पट्टी का एक चक्कर पूरा हो जायेगा।

          अब पट्टी को दुबारा छाती के ऊपर से दूसरी ओर ले जाते हुए पहले की तरह बांधें। यह ध्यान रखें कि ऊपरी भुजा पर हर चक्कर पहले वाले चक्कर का एक तिहाई भाग ढकता हुआ कंधे की ओर बढ़ता हुआ रहे। इसी तरह अग्रभुजा पर पट्टी का हर चक्कर पहले वाले चक्कर के एक तिहाई भाग को ढकता हुआ तथा कलाई की ओर बढ़ता हुआ रहना चाहिए।

          जब दोनों ओर की कोहनी अच्छी तरह ढक जाये, जब आखिरी चक्कर में अग्रभुजा के पास पहुंचकर, वहां सेफ्टीपिन लगा देनी चाहिए।

अंगुलियों की पट्टी- अगर पट्टी सिर्फ एक अंगुली में बांधनी हो तो उसके लिए 4.5 फुट लम्बी पट्टी ले लें और अगर दो या अधिक अंगुलियों में पट्टी बांधनी हो तो उसकी लम्बाई को जरूरत अनुसार बढ़ा लें।

          सबसे पहले हथेली को नीचे की ओर करके चोट-ग्रस्त अंगुलियों को फैलाएं। फिर पट्टी को कलाई के पीछे वाले भाग पर इस प्रकार रखें कि उसका खुला हुआ सिरा अंगूठे की ओर रहे। अब पट्टी को कलाई पर दो बार इस तरह लपेटें कि उसके सिरे से कुछ दूरी तक का भाग लटकता रहे। इसके बाद पट्टी को हथेली के पीछे वाले भाग की ओर से अंगूठे तथा चोट-ग्रस्त अंगुली के ऊपर लाकर अंगुली पर एक घुमाव दे दें। फिर एक दूसरा घुमाव देकर पट्टी को अंगुली के नाखून के किनारे तक ले जाएं।

          इस स्थान पर एक चक्कर देने के बाद, फिर सादा चक्कर देते हुए पट्टी को इस सिरे से शुरु कर पूरी अंगुली में लपेट दें। हर चक्कर को इस तरह से लपेटना चाहिए कि वह अपने से पहले वाले चक्कर के एक तिहाई भाग को ढकता चला जाये। जब पूरी अंगुली पर पट्टी लपेटी जा चुके, जब पट्टी को अंगूठे की ओर से छोटी अंगुली की ओर, हाथ के पीछे वाले भाग के ऊपर से कलाई तक लाए और अन्त में पट्टी को कलाई पर एक या दो चक्कर देकर उसके इस सिरे को, पहले से लटकते हुए सिरे के साथ बांध दें।    

          इस विधि से एक अंगुली में पट्टी बांधी जाती है। अगर कई अंगुलियों में एकसाथ पट्टी बांधनी हो तो पहली अंगुली की पट्टी हो जाने पर, जब पट्टी कलाई पर पहुंचे तब कलाई पर, एक पूरा चक्कर देने के बाद फिर पहली अंगुली की ही तरह दूसरी अंगुली पर पट्टी बांधना शुरू करें। इसी क्रम से जितनी भी अंगुलियों में पट्टी बांधनी हो, बांधी जा सकती है।

अंगूठे की स्पाइका पट्टी- अंगूठे पर बांधी जाने वाली पट्टी 2 सेण्टीमीटर चौड़ी तथा 4.5 फुट लम्बी होनी चाहिए।

          सबसे पहले पूर्वोक्त अंगुली की पट्टी की तरह उसे कलाई के पीछे वाले भाग पर रखकर पहले कलाई पर पट्टी के दो चक्कर दें।

          फिर छोटी अंगुली की ओर से पट्टी को हथेली पर से ले जाते हुए अंगूठे के नाखून के पास लाएं और यहाँ पट्टी को एक बार अंगूठे पर लपेट दें। इस समय पट्टी अंगूठे के बाहरी किनारे की ओर होगी। यहां से उसे अंगूठे तथा हथेली के पीछे वाले भाग के ऊपर से ले जाकर छोटी अंगुली की ओर ले जाएं। इसके बाद हथेली पर से घुमाकर अंगूठे के बाहरी किनारे के पास ले आएं।

          यहां से पट्टी को अंगूठे पर इस प्रकार लपेंटे कि वह पिछले चक्कर के एक तिहाई भाग को ढक ले। अंगूठे पर घुमाकर पट्टी जब दुबारा अंगूठे के बाहरी भाग के किनारे पर पहुंचें. तब उसे दुबारा हथेली के पीछे वाले भाग के ऊपर से ले जाकर छोटी अंगुली की ओर लाएं तथा हथेली पर घुमाकर अंगूठे के बाहरी किनारे के पास ले जाएं।

          इस विधि द्वारा जब पूरे अंगूठे पर पट्टी बंध जाए, तब आखिरी चक्कर में कलाई के पास पहुंचने पर पट्टी को कलाई पर दो बार लपेट दें तथा उसके सिरे को सेफ्टीपिन द्वारा कलाई के पीछे वाले भाग पर अटका दें।   

          इस विधि द्वारा ही पांव के अंगूठे की पट्टी भी बांधी जाती है। पांव के अंगूठे के पट्टी को टखने से बांधना शुरु करें तथा वहीं पर उसे समाप्त करके सेफ्टीपिन या गांठ लगा दें।

हथेली की पट्टी- हथेली पर बांधने के लिए 1.5 इंच चौड़ी तथा 8 फुट लम्बी पट्टी लेनी चाहिए।

          पट्टी को हथेली पर इस प्रकार रखें कि उसका खुला सिरा छोटी अंगुली की ओर रहे। फिर उसे छोटी अंगुली की ओर से अंगूठे की ओर ले जाते हुए चारों अंगुलियों पर दो चक्कर लगा दें।

          दूसरे चक्कर के बाद पट्टी को अंगूठे तथा हथेली के बीच से निकालकर हथेली के पीछे वाले भाग के ऊपर से होकर कलाई के पास तक ले जाएं और कलाई के ऊपर पट्टी का एक चक्कर दे दें।

          अंगूठे तथा हथेली के पीछे वाले भाग पर से होते हुए पट्टी को छोटी अंगुली के नाखून तक ले आएं। इसके बाद उसे अंगुलियों के नीचे से घुमाकर छोटी अंगुली की ओर से अंगूठे की ओर ले जाते हुए दुबारा पहले वाली क्रिया दोहराते हुए 4-5 चक्कर लगा दें। यह याद रखें कि हर चक्कर के बीच में चित्र के अनुसार बराबर स्थान छूटे। आखिरी चक्कर के बाद कलाई पर पट्टी के एक या दो चक्कर लगाकर पट्टी को मोड़कर सेफ्टीपिन लगा दें।

अग्रभुजा की पट्टी- अग्रभुजा के लिए लगभग 2 इंच चौड़ी तथा 18 फुट लम्बी पट्टी की जरूरत होती है।

          पट्टी को कलाई पर इस प्रकार रखें कि उसका खुला हुआ सिरा अंगूठे की ओर रहे। फिर उसे अंगूठे की ओर से छोटी अंगुली की ओर ले जाते हुए कलाई पर दो चक्कर दें।

          दूसरे चक्कर के बाद जब पट्टी अंगूठे की ओर पहुंचे, तब उसे अंगूठे तथा हथेली के पीछे वाले भाग की ओर से छोटी अंगुली के किनारे तक पहुंचा दें।

          फिर हथेली पर एक चक्कर लगाकर पट्टी को दुबारा छोटी अंगुली की ओर कलाई के पास ही पहुंचा दें। इसी प्रकार से जरूरत अनुसार एक या दो चक्कर और भी देने चाहिए।

          अन्तिम लपेट के बाद जब पट्टी किनारे के पास पहुंचे तब उसे कलाई पर दो बार लपेटना चाहिए तथा यह ध्यान रखना चाहिए कि दूसरा चक्कर पहले चक्कर के एक तिहाई भाग को चौड़ाई से ढकता रहे।

          जब पट्टी भुजा के पीछे वाले भाग के बीच में पहुंच जाये, तब उसे भुजा के ऊपर कोहनी तक लपेटना चाहिए।    

          कभी-कभी हर चक्कर में पट्टी जब भुजा के पीछे वाले भाग पर होती है, तब उसे मोड़कर भी बांधा जाता है।

          जब पट्टी कोहनी के पास पहुंच जाये, तब उसे दो बार सामान्य तरीके से लपेटकर सेफ्टीपिन लगा देनी चाहिए।

          हथेली अथवा अग्रभुजा के किसी स्थान पर चोट लगने पर ही इस पट्टी को बांधा जाता है। यदि हथेली पर चोट न लगकर सिर्फ अग्रभुजा पर ही लगी हो तो पट्टी को कलाई से शुरु करके सीधे अग्रभुजा पर बांधना चाहिए।

टांग की पट्टी- टखने से लेकर घुटने के बीच टांग में अगर किसी प्रकार की चोट हो तो उसकी पट्टी भी अग्रभुजा की पट्टी की तरह ही बांधी जाती है। टांग में पट्टी बांधते समय, सामने की ओर हर चक्कर में उसे अग्रभुजा की पट्टी की तरह ही मोड़कर बांधा जाता है।

कोहनी की पट्टी- इसके लिए सबसे पहले दो-ढाई इंच चौड़ी तथा 10 फुट लम्बी पट्टी लेनी चाहिए।

          फिर चोट-ग्रस्त कोहनी को समकोण पर मोड़कर, पट्टी को ऊपर भुजा पर कोहनी से कुछ ऊपर, दो बार, लपेटें। पट्टी को इस प्रकार लपेटना आरम्भ करना चाहिए कि उसकी लपेटन बाहर से अंदर की ओर रहे।

          दो चक्कर पूरे हो जाने पर पट्टी को भुजा के अंदर से इस प्रकार घुमाना चाहिए कि वह कोहनी के नीचे अग्रभुजा के बाहरी ओर जा पहुंचे। इसी स्थान पर फिर दो बार चक्कर देने चाहिए। यहां से पट्टी को कोहनी के जोड़ की भीतरी सतह से लाते हुए ऊपरी भुजा की ओर ले जाना चाहिए और वहां एक चक्कर देकर दुबारा कोहनी के जोड़ से पहले की तरह लाकर अग्रभुजा पर पहुंचाना चाहिए। इस बार पट्टी अग्रभुजा के भीतरी ओर जा पहुंचेगी और कोहनी के जोड़ पर अंग्रेजी के अक्षर 8 या हिन्दी के अंक 4 का आकार बनाएगी।

          अब पट्टी के कई चक्कर इसी प्रकार लपेटें ताकि पूरी कोहनी ढक जाये। हर चक्कर अपने पहले चक्कर वाली पट्टी के चौड़ाई वाले भाग को एक तिहाई ढकता रहना चाहिए। जब आखिरी चक्कर ऊपरी भुजा पर पहुंचे तो वह एक चक्कर लगाकर सेफ्टीपिन लगा देनी चाहिए। सबके अन्त में, भुजा को एक पतली पट्टी द्वारा गले से लटका देना चाहिए।

घुटने तथा टखने की पट्टी- घुटने तथा टखने पर बांधने के लिए सबसे पहले 3 इंच चौड़ी तथा 5 मीटर लंबी पट्टी ले लेनी चाहिए।

           फिर पट्टी के खुले सिरे को जोड़ की भीतरी सतह पर रखकर दो-दो चक्कर लगायें। फिर क्रमशः जोड़ के ऊपर-नीचे लटकते हुए अंग्रेजी के 8 की आकृति में पट्टी को लपेटते हुए आगे बढ़ते जाएं।

एड़ी की पट्टी- एड़ी पर बांधने के लिए सबसे पहले इसके लिए 7 सेण्टीमीटर चौड़ी तथा जरूरत अनुसार लम्बी पट्टी ले लें।

          फिर चोट-ग्रस्त टांग को किसी चीज का सहारा देकर जमीन से थोड़ा ऊंचा कर दें, ताकि पट्टी बांधने में सुविधा रहे। फिर पट्टी को टखने के जोड़ से लपेटना शुरु करे और पांव की छोटी अंगुली वाली दिशा में घुमाते हुए एड़ी के ठीक ऊपर ले आयें। इसके बाद उसे सामने टखने के जोड़ पर ले जायें।

          पट्टी के दूसरे चक्कर को पहले चक्कर की तरह इस प्रकार लपेटे कि वह पहले चक्कर के एक तिहाई भाग को एड़ी के ऊपर की ओर ढक दें। फिर पट्टी के तीसरे चक्कर को इस प्रकार लगाएं कि वह एड़ी से नीचे तलुए की ओर रहे तथा पहले चक्कर से एक तिहाई भाग को ढक ले।  

          अब पट्टी को टखने के ऊपर से लाकर टांग का एक चक्कर पूरा कर दें। फिर पट्टी को तलुए के नीचे की ओर ले जाए। इस जगह तलुए के नीचे से घुमाकर, अंगूठे की ओर पहुंचाने पर, एड़ी पर पट्टी को तिरछा घुमा दें तथा टांग के पीछे से निकालकर सामने की ओर ले जाए। फिर पट्टी को अंगूठे की ओर से ले जाए। अब छोटी वाली ओर से एड़ी पर तिरछे चक्कर से लपेटते हुए टांग के पीछे की ओर घुमाते हुए सामने ले आए। इसी विधि से पट्टी को तीन चार बार लपेटें। ताकि टखना और एड़ी पूरी तरह से ढक जाए। आखिरी में टांग पर एक सादा चक्कर लगाकर सेफ्टीपिन लगा दें।

तलुए की पट्टी- तलुए पर पट्टी करने के लिए सबसे पहले इसके लिए 7 सेण्टीमीटर चौड़ी तथा जरूरत अनुसार लम्बी पट्टी ले लें।

          टखने के जोड़ पर पट्टी को इस तरह से रखें कि पट्टी का खुला हुआ सिरा अंगूठे की ओर रहे। फिर पट्टी को टखऩे तथा एड़ी से घुमाते हुए दो बार इस तरह लपेटें कि वह पूरी एड़ी को ढक ले। इसके बाद पट्टी को पांव के ऊपर से ले जाते हुए अंगुली के सिरे के पास ले जाए तथा वहां पांव के ऊपर एक सादा चक्कर देकर, अग्रभुजा तथा टांग की पट्टी की तरह, पट्टी को हर चक्कर पर बीच में मोड़ते हुए पांव के ऊपर लपेटें। इस प्रकार 5-6 चक्करों से ही तलुआ पूरी तरह ढक जाएगा। अब पट्टी को दुबारा सामने की ओर ले जाकर एक बार टखने के ऊपर लपेट कर सेफ्टीपिन लगा दें।

          अगर टांग पर भी पट्टी बांधने की जरूरत हो तो इसी पट्टी को टांग के ऊपर भी बढ़ाया जा सकता है।

छाती की पट्टी- छाती पर दो प्रकार की पट्टियां बांधने की जरूरत पड़ती है-

  • सिर्फ एक भाग के लिए
  • पूरी छाती के लिए।

          छाती पर बांधने के लिए पट्टी 3 इंच चौड़ी तथा जरूरत अनुसार लंबाई की होनी चाहिए।

          अगर छाती को एक ही तरफ से ढकना हो तो उसके लिए सबसे पहले पट्टी के एक सिरे को घाव के ऊपर रखें। फिर दूसरे सिरे को पहले कमर की बाईं ओर से चारों ओर को लपेटते हुए दाईं छाती के नीचे तथा बाएं कन्धे के ऊपर ले जाकर, दुबारा कमर के बाईं ओर लाकर चारों ओर लपेट दें। इस प्रकार छाती के अच्छी तरह ढक जाने पर पट्टी के दोनों सिरों को सेफ्टीपिन लगाकर बांध दें।

          अगर पूरी छाती को ढकना हो तो सबसे पहले पूर्वोक्त प्रकार की पट्टी लेकर उसे कमर के पीछे दाईं ओर से लपेटना आरम्भ करें। फिर उसे कमर के चारों ओर लपेटकर बाएं कंधे के ऊपर सामने की ओर लगाते हुए, कमर के दाईं ओर ले जाए, फिर कमर के चारों ओर लपेटते हुए उसे दाएं कंधे के ऊपर से लेकर कमर के बाईं ओर ले जाकर दुबारा कमर पर लपेट दें। इस प्रकार जब छाती के दोनों भाग अच्छी तरह ढक जायें, तब उसके सिरे को सेफ्टीपिन द्वारा पट्टी के साथ रोक दें।

          इस प्रकार की पट्टी को लिस्टर की बन्ध (Lister’s Bendage) भी कहा जाता है।

कंधे की स्पाइका पट्टी- यह पट्टी कन्धे पर दबाव डालने के लिए बांधी जाती है। इसके लिए सबसे पहले बाहुमूल से पट्टी बांधना आरम्भ करें। इसके बाद पट्टी के सिरे को बाहुमूल, बगल, कंधे, पीठ तथा दूसरी ओर की बगल के अंदर ही घुमाकर, पीड़ित की छाती पर घुमाते हुए फिर बाहुमूल तक ले आए। इस प्रकार से कई बार घुमाकर बन्ध को पूरा करें और आखिरी में सेफ्टीपिन लगा दें।

हंसली की पट्टी- हंसली की पट्टी करने के लिए सबसे पहले बगल में एक गद्दी रख लें, जो 2 इंच मोटी तथा 4 इंच लम्बी हो। फिर एक 4 इंच चौड़ी पट्टी का छोर लेकर, उसे भुजा में ऊपरी हिस्से के चारों ओर ले जाकर झोला-सा बनाकर सेफ्टीपिन लगा दें।

          अब पीड़ित की पीठ के चारों ओर ले जाकर पट्टी को नीचे बगल की ओर उतारकर छाती के चारों ओर लपेटें तथा चोट-ग्रस्त हिस्से को बगल तक बांधते जाए। फिर पहुंचे को ऊपर उठाकर बगल को सीने के पास तक सटा दें, ताकि गद्दी अच्छी तरह टिकी रहे। इसके बाद कंधे को उठाने तथा पहुंचे का सहारा देने के लिए पट्टी के चारों ओर तथा सुरक्षित कंधे के ऊपर और कोहनी के चारों ओर तीन बार क्रमशः लपेटें। फिर धड़ के चारों ओर तथा भुजा के निचले भाग पर होकर पट्टी को तीन बार ले जाए, ताकि कंधे उठे रहें। आखिरी में पट्टी से दूसरे छोर को भुजा के ऊपर वाले हिस्से के पास ले जाकर सेफ्टीपिन लगा दें।

जबड़े की पट्टी- इसके लिए सबसे पहले 3 इंच चौड़ी पट्टी का 5 फुट लम्बा टुकड़ा लेकर, उसके बीच में एक छेद कर दें। इसके बाद पट्टी को दोनों ओर से इतना फाड़ें कि फाड़ा हुआ हिस्सा छेद से डेढ़ इंच दूर ही रह जाये। इस प्रकार चार सिरे वाली पट्टी तैयार हो जायेगी। इस पट्टी को सही तरीके जबड़े पर बांध लें।

ठोड़ी का बैरेल-बन्ध- इसके लिए दो से ढाई इंच चौड़ी पट्टी ले लें। फिर पट्टी के मध्य भाग को ठोड़ी के नीचे जहां तक सम्भव हो सके, पीछे करके रखें। फिर पट्टी को घुमाते हुए सिरे के ऊपर लायें तथा बांध दें।

          इसके बाद गांठ को खोलकर पट्टी के एक भाग को कपोल के सामने लाए तथा दूसरे भाग को सिर के पीछे कर दें। अंत में सिर के ऊपर एक गांठ लगा दें।

          इस प्रकार की पट्टी को बैरल बन्ध (The Barrel Bendage) कहा जाता है।

कान के पिछले भाग की पट्टी- कान के पिछले भाग के लिए ‘मेस्टोयड बन्ध’ (Mastoid Bandage) बहुत अच्छा रहता है।

          इस पट्टी को चित्रानुसार बाँधना चाहिए।

जांघ पर पट्टी बांधना- इसके लिए सबसे पहले पीड़ित व्यक्ति को पीठ के बल लिटा दें और उसकी कमर के नीचे एक बर्तन को उलट कर रख दें।

          फिर पट्टी को 2-3 बार जंघा-मूल में घुमाकर उसके ऊपर लाएं तथा कमर के पीछे लाते हुए, दुबारा जांघ से घुमाएं। आखिरी में पट्टी को 2-3 बार पूरी कमर पर घुमाकर सेफ्टीपिन लगा दें।

आंख पर पट्टी बांधना- इसके लिए सबसे पहले जिस आंख की पट्टी बांधनी हो, उस पर साफ रूई रख दें। इसके बाद आसान विधि द्वारा रूई के ऊपर से पट्टी बांध दें।

गले की पट्टी- इसके लिए पहले पट्टी के सिरे का गले पर दो बार घुमाव दें। फिर उसे कंधे पर होकर विपरीत बगल के पास लायें और वहां से घुमाते हुए दूसरी बगल पर ले जाये। फिर, वहां से विपरीत कंधे पर ले जाकर, दुबारा पहले की तरह घुमाव दे। इस प्रकार जब पट्टी समाप्त हो जाये, तब सेफ्टीपिन लगा दें।

मलद्वार तथा लिंग के मध्य भाग की पट्टी- इसके लिए पहले बताई गई विधि द्वारा ‘टी’ टाइप की पट्टी तैयार कर लें। इस पट्टी को बीच में सिलाई करके जोड़ा जाता है।

            फिर सिलाई किये हुए भाग को रोगी की पीठ की मध्य-रेखा के पास रखकर ऊपरी सिरे को पेट पर घुमाकर बांध दें।

            अब दूसरे नीचे वाले सिरे को मलद्वार के ऊपर से लाकर पेट के सामने बांध दें।

           मलद्वार तथा लिंग के नीचे वाले स्थान पर पट्टी बांधने के लिए यह सबसे अच्छी विधि मानी जाती है।

खोपड़ी की पट्टी- खोपड़ी पर पट्टी बांधने के लिए सबसे पहले पीड़ित व्यक्ति को किसी कुर्सी या चारपाई पर बैठा दें। फिर एक तिकोनी पट्टी को पूरा फैलाकर, उसके पूरे आधार को चौड़ाई से 4 अंगुल मोड़ लें। अब पीड़ित व्यक्ति के सामने खड़े होकर उस पट्टी को सिर पर इस तरह से रखें कि पट्टी का आधार मस्तक पर भौंहों का स्पर्श करता रहे तथा उसका सिरा सिर के पीछे की ओर लटकता रहे। यह याद रहे कि पट्टी के आधार का मुड़ा हुआ किनारा अंदर की ओर रहना चाहिए।

          अब पट्टी के दोनों सिरों को कान के ऊपर से सिर के पीछे ले जाकर, दोनों हाथों के सिरों को परस्पर बदल दें। इसके बाद दोनों सिरों को सामने लाकर मस्तक के बीच में रीफ-गांठ बांध दें।

          पीड़ित व्यक्ति के पीछे की ओर जाकर पट्टी के लटकते हुए सिरे को धीरे से खींचना चाहिए, ताकि पट्टी में पड़ी हुई सिकुड़न आदि निकल जाये। अन्त में इस लटकते हुए भाग को मोड़कर तथा सिर की ओर लाकर सिरे को सेफ्टीपिन द्वारा कस देना चाहिए।

छाती और पीठ की पट्टी- छाती पर पट्टी बांधने के लिए सबसे पहले पीड़ित व्यक्ति को अपने सामने खड़ा कर देना चाहिए। फिर खुली हुई पट्टी के मध्य-भाग को छाती के चोट-ग्रस्त स्थान पर रखें। फिर पट्टी के सिरे को उसी ओर के कन्धे पर रखें, जिस ओर की छाती का भाग चोट-ग्रस्त हो। अब पट्टी के आधार को 2 इंच मोड़कर तथा घुमाकर पीठ के पीछे की ओर ले जायें। जिस कंधे पर पट्टी का सिरा हो, पीठ के उसी बगल की ओर इस प्रकार बांधे कि पट्टी के लटकने वाले दोनों सिरों में एक सिरा अधिक लम्बा रहे। आखिर में, इस लम्बे सिरे को कंधे पर लटकते हुए पट्टी के सिरे से बांध दें।

          पीठ की पट्टी भी ठीक इसी प्रकार से बांधी जाती है। इसमें अन्तर सिर्फ इतना रहता है कि पट्टी को पीड़ित व्यक्ति की छाती पर न रखकर, पीठ की ओर रखा जाता है।

कंधे की पट्टी- इसके लिए सबसे पहले एक पूरी तिकोनी पट्टी को फैलाकर उसके आधार को चौड़ाई से 4 अंगुल मोड़ दें। फिर चोट-ग्रस्त कंधे की ओर खड़े होकर, उसी ओर के हाथ पर पट्टी को इस प्रकार रखें कि उसके आधार का मध्य भाग कोहनी से थोड़ा ऊपर रहे तथा आधार का मुड़ा हुआ भाग भीतर की ओर रहे। पट्टी का सिरा कन्धे के ऊपर गर्दन के पास रहना चाहिए।

          अब पट्टी के दोनों सिरों को भुजा के नीचे से घुमाकर निकालें। इसी प्रकार भुजा के ऊपर इन सिरों को एकबार और घुमाकर सामने की ओर गांठ बांध दें। इसके बाद हाथ को एक दूसरी पतली पट्टी के द्वारा गले में इस प्रकार लटका दे कि उस पट्टी की गांठ पहले बंधी हुई पट्टी के सिरे के ऊपर रहे। अन्त में पहली पट्टी के सिरे को धीरे से खींचकर उसकी सिकुड़न निकाल दें। इससे पट्टी कस जायेगी। फिर सिरे को दूसरी पट्टी की गांठ के ऊपर से मोड़कर, कंधे पर सेफ्टीपिन द्वारा अटका दें।

कोहनी की पट्टी- इसके लिए सबसे पहले एक पूरी तिकोनी पट्टी को फैलाकर उसके आधार को पहले की तरह ही मोड़ लें। इसके बाद चोट-ग्रस्त कोहनी को समकोण से मोड़कर रखें। पट्टी के आधार को, जिसका मुड़ा हुआ किनारा भीतर की ओर रहें, कोहनी के नीचे भुजा के बाहरी ओर रखें तथा सिरे को कोहनी से ऊपर कंधे की ओर रखें।

          अब पट्टी के दोनों सिरों को भुजा पर से घुमाकर कोहनी के ऊपर ले जायें। वहां इन सिरों को पट्टी के ऊपर से घुमाकर, फिर वहीं सामने की ओर गांठ लगा दें। इस प्रकार कोहनी के भीतरी ओर पट्टी द्वारा अंग्रेजी के अंक 8 जैसा आकार बन जायेगा। फिर पट्टी के सिरे को सावधानी से खीचंकर तथा मोड़कर, कोहनी पर सेफ्टीपिन लगा दें। अन्त में हाथ की पूरी पट्टी द्वारा हाथ को गले से लटका दें।

हाथ की पट्टी- हाथ पर पट्टी करने के लिए सबसे पहले एक पूरी पट्टी को फैलाकर उसके आधार को दूसरी पट्टी की तरह ही मोड़ लें। इस फैली हुई पट्टी के ऊपर चोट-ग्रस्त हथेली को इस प्रकार रखें कि अंगुलियां पट्टी के सिरे की ओर तथा कलाई पर पट्टी के मुड़े हुए आधार से कुछ दूर रहे।

          अब पट्टी को शीर्ष भाग की अंगुलियों के ऊपर से मोड़ते हुए कलाई के ऊपर ले आयें। फिर पट्टी के दोनों सिरों को भी घुमाकर कलाई के ऊपर लायें और वहां एक घुमाव देकर रीफ-गांठ बांध दें।

          अन्त में, शीर्ष को खींचकर तथा गांठ के ऊपर से मोड़कर सेफ्टीपिन लगा दें।

जांघ तथा कूल्हे की पट्टी- इसके लिये दो पट्टियों की जरूरत होती है-

  • तिकोनी पट्टी
  • संकरी या पतली पट्टी।

          सबसे पहले पतली पट्टी को कमर में बैल्ट की तरह इस प्रकार बांधें कि उसकी गांठ चोट-ग्रस्त कूल्हे की ओर रहें।

        अब तिकोनी पट्टी लेकर उसके आधार को पीड़ित व्यक्ति के घाव के अनुसार मोड़ लें तथा मुड़े हुए किनारे को अंदर की ओर रखते हुए, पट्टी के आधार को चोट-ग्रस्त जांघ पर इस प्रकार रखें कि पट्टी का सिरा कमर के कूल्हे के ऊपर रहे।

          फिर पट्टी के दोनों सिरों को जांघ के चारों ओर घुमाकर बांध दें तथा शीर्ष भाग को कमर से बंधी हुई पट्टी के नीचे सावधानीपूर्वक निकालकर थोड़ा-सा खींचे। फिर उसे नीचे की ओर उलट कर सेफ्टीपिन से अटका दें।

घुटने की पट्टी- इस पट्टी को कोहनी की पट्टी की तरह ही बांधा जाता है। इनमें फर्क सिर्फ इतना ही है कि इसमें घुटने को कोहनी की तरह समकोण से न मोड़कर सिर्फ थोड़ा-सा ही मोड़ा जाता है।

          पट्टी के आधार को 8 सेण्टीमीटर के लगभग मोड़कर, उसके मध्य-भाग को घुटने के ठीक नीचे की ओर तथा शीर्षभाग को जांघ पर रखना चाहिए। फिर पट्टी के दोनों सिरों को घुटने के नीचे-ऊपर घुमाने के बाद जांघ के चारों ओर घुमाएं। इसके बाद दोनों सिरों में रीफ-गांठ लगाकर शीर्षभाग को सावधानी से नीचे की ओर खींच दें।

पांव की पट्टी- इस पट्टी को हथेली की पट्टी की तरह ही बांधा जाता है। इसके लिए सबसे पहले पूरी पट्टी को फैलाकर, उसके आधार को मोड़ लें। फिर चोट-ग्रस्त पांव की पट्टी इस प्रकार रखें कि एड़ी आधार से कुछ दूर तथा अंगुलियां सिरे की ओर रहे। अब सिरे को मोड़कर टखने के ऊपर की ओर ले जाए। फिर पट्टी के दोनों सिरों को पांव के ऊपर से घुमाकर टांग के पीछे की ओर लाए तथा दोनों सिरों को घुमाते हुए टखऩे के सामने की ओर लाकर गांठ बांध दें। अन्त में पट्टी के सिरे को धीरे से खीचकर गांठ के ऊपर मोड़ दें तथा सेफ्टीपिन लगा दें।

बहुपुच्छी पट्टी बांधना- यह पट्टियां एक से ज्यादा पट्टियों को जोड़कर तैयार की जाती है, इसलिए इन्हें जरूरत अनुसार अलग-अलग आकार-प्रकारों में तैयार किया जाता है। इन पट्टियों को डोमैटी, फलालेन या दूसरे साफ कपड़ों द्वारा तैयार किया जाता है।

चिपकने वाली पट्टी बांधना- चिपकने वाली पट्टियों का प्रयोग जरूरत अनुसार पूरी सूझ-बूझ के आधार पर किया जाता है। यहां कुछ चित्रों द्वारा इस पट्टी की प्रयोग-विधि को प्रदर्शित किया जा रहा है, इन्हें देखकर समझ लें।

अंगुली की पट्टी- ढाई इंच चौड़ाई वाली चिकनी पट्टी को अंगुली के दूनी लम्बाई लें। फिर उसे क्रमशः नीचे प्रदर्शित चित्र की तरह चिपकाकर, खोल-सा बना दें और बाकी काट दें।

बाकी अंगों की पट्टी- इन चित्रों के अनुसार चिपकने वाली पट्टी का शरीर के अन्य अंगों पर भी प्रयोग किया जा सकता है।

Tags: Gilli marham patti, Thande senk wali marham patti, Samanye pattiyan, Lambi pattiyan, Tikoni pattiyan, Chipkane wali pattiyan