जल चिकित्सा

Prakartik chikitsa ke vibhinn angon men jal chikitsa ka mahtwproon sathan hai. Jal ka upyog chikitsa ke roop men prachin kaal se hi hota aa raha hai.


जल चिकित्सा


manaw sharir ki utpatti panchtatvon se huee hai, jismen jal ka mahtwproon sthan hai.मानव के शरीर में 70 प्रतिशत भाग पानी का है और संसार के तीन चौथाई भाग में पानी ही है। मानव शरीर की उत्पत्ति पंचतत्वों से हुई है, जिसमें जल का महत्वपूर्ण स्थान है। जल ही मानव जीवन की उत्पत्ति का मुख्य आधार है। जल के द्वारा ही प्राकृतिक क्रिया सम्पन्न होती है। पानी के कारण ही मनुष्य में बुद्धि का विकास हुआ है और मनुष्य आदि युग से परमाणु युग तक पहुंच पाया है। पृथ्वी पर जब भी प्रलय या अन्य विनाशकारी कांड होता है, जिसमें जीवन की हानि होती है तो उसका मुख्य कारण पानी ही होता है। संसार में जब-जब प्रलय होती है, तब-तब संसार में पानी की मात्रा बढ़ जाती है और संसार पानी में डूब जाता है। पानी की मात्रा जब-जब समुद्र तल से ऊंची उठती है................

>>Read More

प्राकृतिक चिकित्सा के कुछ खास आर्टिकल्स :