चुम्बक चिकित्सा

Chumbak rogon ko Thik karane ke liye ek atyant shaktishali hathiyar mana jata hai.


चुम्बक चिकित्सा


When a magnetic material (substance) is rubbed with a magnet, it is also become magnetized (magnet). According to this mechanical process when a magnetic substance is magnetized through a magnet by rubbing it repeatedly on the magnet towards a certain directionजब हम चुम्बक के इतिहास की ओर देखते हैं तो हमें पता चलता है कि प्राचीन काल के मनुष्यों ने इस धरती पर कई ऐसे पदार्थों की खोज की है जो मनुष्यों के शरीर तथा उनके कार्यो को प्रभावित करते हैं और मनुष्यों के जीवन तथा उनके रोगों पर विशेष प्रभाव डालते हैं। मनुष्यों द्वारा एक ऐसे ही पदार्थ की खोज हुई जो चुम्बक कहलाता है। हमारे पूर्वजों को इस चुम्बक में ऐसी शक्ति दिखाई दी कि यह पदार्थ लोहे से बने पदार्थो, लोह-द्रव्यों तथा लोहा जैसे पदार्थ आदि को अपनी शक्ति से अपनी ओर आकर्षित करता है। बाद में लोगों को यह भी पता लगा कि हमारे शरीर में पाये जाने वाले सभी तरल पदार्थ तथा अर्ध तरल पदार्थ जिनमें लोहे के कुछ कण पाये जाते हैं, चुम्बक उनको भी प्रभावित करता है।  

पुराने समय की विचार धारा के अनुसार यह भी पता लग गया कि सभी प्रकार के लौह तत्व-द्रव्य पदार्थो पर चन्द्रमा का सीधा प्रभाव पड़ता है। इसके कारण मनुष्य के मस्तिष्क पर भी तेज प्रभाव पड़ता है। कई वैज्ञानिक परीक्षणों से यह भी पता लगा कि चुम्बक पदार्थों से मनुष्यों के कई प्रकार के रोग ठीक किये जा सकते हैं।...................

>>Read More  

कुछ खास अर्टिकल्स :