Error message

  • User warning: The following theme is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: mobilizer. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).

कोशिका की रचना


कोशिका की रचना

(Structure of cell)


हर कोशिका के तीन मुख्य भाग होते है-

1. कोशिका कला या भित्ति (Cell membrane or cell wall):

यह एक पतली झिल्ली होती है जो कोशिका की सबसे बाहरी (outermost) परत को बनाती है। इसे प्लाज्म मेम्ब्रेन भी कहते हैं। कोशिका कला वसा (lipid), प्रोटीन तथा लवणों की दो परतों वाली झिल्ली है..........................

>>Read More 


2. कोशिकाद्रव्य (Cytoplasm):

केन्द्रक (nucleus) के अलावा, कोशिका के अंदर के पूरे भाग को कोशिका द्रव्य (cytoplasm) कहते हैं। कोशिका का जीवन इसी साइटोप्लाज्म पर ही आश्रित रहता है और इसी पर कोशिका की समस्त मूलभूत जीवन-क्रियाएं- श्वसन, पाचन, उत्सर्जन..........................

>>Read More


3. केन्द्रक (nucleus):

लाल रक्त कोशिकाओं (erythrocytes) को छोड़कर शरीर की सारी कोशिकाओं के बीच वाले भाग में एक गोलाकर रचना होती है, जिसे केन्द्रक (nucleus) कहते हैं। कंकालीय पेशी (skeletal muscle) और कुछ दूसरी कोशिकाओं में एक से अधिक केन्द्रक होते हैं..........................

>>Read More