कोशिका

Sharir ke alag-alag ango ki alag-alag hoti hai, lekin koshikaon ki moolbhoot sanrachana ek saman hi hoti hai. Ye itani chhoti hoti hai, ki inhe bina sookshmdarshi ke dekh pana sambhaw hi nahi hai.

कोशिका


कोशिका क्या है?


मानव शरीर असंख्य छोटी-छोटी इकाईयों से मिलकर से बना है। इन इकाईयों को कोशिकाएं (Cells) कहा जाता है। कोशिका शरीर का एक बहुत ही सूक्ष्म रूप हैमानव शरीर असंख्य छोटी-छोटी इकाईयों से मिलकर से बना है। इन इकाईयों को कोशिकाएं (Cells) कहा जाता है। कोशिका शरीर का एक बहुत ही सूक्ष्म रूप है। यह शरीर की एक मूलभूत रचनात्मक एवं क्रियात्मक इकाई है जो स्वतन्त्र रूप से जीवन की क्रियाओं को चलाने की क्षमता रखती है।

     शरीर के अलग-अलग अंगों की कोशिकाएं अलग-अलग होती है, लेकिन कोशिकाओं की मूलभूत संरचना एक समान ही होती है। ये इतनी छोटी होती है, कि इन्हें बिना सूक्ष्मदर्शी (माइक्रोस्कोप) के देख पाना सम्भव ही नहीं है। इन्हें स्टेन करने के बाद स्लाइड पर स्थित करके ही देखा जा सकता है। स्टेन करने से कोशिका के अलग-अलग भाग अलग-अलग रंग ग्रहण करके एक-दूसरे से अलग दिखाई देने लगते हैं। कोशिका की रचना के अंदर कई-एक सम्मिलित अंग आते हैं जिनके सामूहिक रूप को कोशिका (Cells) कहते हैं। कार्यों की विभिन्नता के कारण कोशिकाओं के आकार एवं आकृति में अन्तर होता है, लेकिन कुछ रचनात्मक विशिष्ट गुण उन सभी में समान रहते हैं।

मानव शरीर मेन कैटेगरीज :


मानव शरीर का परिचय    |   एनाटॉमी एवं फिजियोलॉजी­     मानव शरीर संरचना के आधारभूत घटक     |      पोषण एवं चयापचय        ऊतक           पाचन संस्थान        आच्छदीय संस्थान       अस्थि-संस्थान (कंकाल-तन्त्र)      जोड़ या सन्धियां       पेशीय संस्थान        तन्त्रिका तन्त्र       ज्ञानेन्द्रिया       अन्तःस्रावी तन्त्र        रक्त परिसंचरण       लसीकीय तन्त्र   |   श्वसन-संस्थान       मूत्रीय संस्थान        प्रजनन-संस्थान