आसन

Aasano ko karane se pahale ya karane ke samay tatha karane ke bad nien niyamo ko jaan lena aawashayak hai. Kyonki isase hi abhyas walon ko adhik se adhik laabh prapt hota hai.


आसन


परिचय-

         योगशास्त्रों में योगासनों की संख्या का वर्णन करते हुए कहा गया है कि योगासन की संख्या इस संसार में मौजूद जीवों की संख्या के बराबर है। भगवान शिव द्वारा रचना किए गए आसनों की संख्या लगभग 84 लाख है। परंतु इन आसनों में से केवल महत्वपूर्ण 84 आसन ही सभी जानते हैं। हठयोग में केवल 84 आसनों को बताया गया है, जो मुख्य है तथा अन्य आसनों को इन्ही 84 आसनों के अन्तर्गत सम्माहित है..................

>> Read More

विभिन्न प्रकार के योगासन :