गैस और डकार

  << आयुर्वेदिक औषधियां होम पेज

Gais aur Dakar se sambandhit rogon ka upchar ayurveda se asanipurawak kiya ja sakata aur ye rog is prakar hai jaise Afara aur Gais banana, Dakaren ana, Kabj, Pet men vayu ka banana aadi.

गैस और डकार

गैस का बनना   : कभी-कभी भूख न लगना, गलत-खान पान और लापरवाही आदि के कारण पेट में दूषित वायु इकट्ठी हो जाती है, जो आध्यमान या अफारा को पैदा करती है, इसके परिणामस्वरूप पेट की नसों में खिंचाव महसूस होने लगता है......................>> Read More


डकारें आना  : पेट में बनी गैस जब मुंह से बाहर आती है तो वह डकार कहलाती है। पेट में अधिक अम्लता के बनने से गैस होने लगती है, जिसके कारण मुंह में हल्का-सा खट्टा या तीखा पानी आता है......................>> Read More


डकार के वेग को रोकने से होने वाले रोग   : डकार के वेग को रोकने से होने वाले रोग अनेक प्रकार के होते हैं, जो इस प्रकार से हैं पहला- अरुचि (भूख का कम लगना), दूसरा- हृदय (दिल की बीमारी), तीसरा- कंपन, चौथा- हिचकी, पांचवा- खांसी आदि......................>> Read More


कब्ज  : कब्ज से अभिप्राय है, कि मल-त्याग न होना, मल-त्याग कम होना, मल में गांठें निकलना, लगातार पेट साफ न होना, रोजाना टट्टी नहीं जाना, भोजन पचने के बाद पैदा मल पूर्ण रूप से साफ न होना, टट्टी जाने के बाद पेट हल्का और साफ न होना आदि को कब्ज कहते हैं......................>> Read More


पेट में वायु का बनना  : पेट में गैस या वायु की बीमारी पेट की मंदाग्नि के कारण होती है। शरीर में रोग तीन भागों से होते हैं। पहला- शाखा, दूसरा-मर्म, अस्थि और संधि तथा तीसरा- कोष्ठ .....................>> Read More